Articles by "राजनीति"

सुलतानपुर 

स्वर्गीय पं0 राम किशोर त्रिपाठी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी किये जाने का मामला। 

कक्कू पाण्डेय यूथ विग्रेड के कार्यकर्ताओं ने फूंका नगर पालिका परिषद चेयरमैन बबिता जायसवाल प्रतिनिधि अजय जायसवाल का कलेक्ट्रेट मुख्य गेट पर पूतला। 

जिलाधिकारी कार्यालय पर लगा प्रदर्शन कारियों का मजमा नही लगी खाकी को भनक। 

पूतला फूंक लगाये नगर पालिका चेयरमैन बबिता जायसवाल और अजय जायसवाल  मुर्दाबाद के नारे रहा अफरा तफरी का माहौल।


 

सुल्तानपुर : विश्व हिंदू परिषद तथा बजरंग दल के जिहादियों द्वारा मारे गए कार्यकर्ता रिंकू शर्मा को आज शाम विहिप तथा बजरंग दल ने कैंडल बजरंग दल ने कैंडल मार्च के माध्यम से उन्हें श्रद्धांजलि व्यक्त की तथा जिहादियों द्वारा ने बर्बरता से मारने पर इसका से मारने पर इसका पर इसका विरोध व्यक्त किया विहिप के प्रखंड मंत्री उत्कर्ष सिंह प्रखंड अध्यक्ष दिनेश कुमार सिंह तथा बजरंग दल के प्रखंड संयोजक संदीप मोदनवाल ने पूरे विहिप प्रखंड कार्यकारिणी एवं कार्यकर्ताओं के साथ विश्व हिंदू परिषद कार्यालय से ब्लॉक मुख्यालय तक कैंडल मार्च किया तथा रिंकू शर्मा को श्रद्धांजलि व्यक्त की इसके पश्चात पुलवामा में शहीद हुए जवानों को विहिप के पदाधिकारियों में श्रद्धांजलि अर्पित की औरव प्रखंड मंत्री उत्कर्ष सिंह ने कहा कहा कि बजरंग दल के कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की जिस प्रकार जिहादी द्वारा बर्बरता से हत्या की गई है संगठन और पूरा देश इसी कतई स्वीकार्य नहीं करेगा पूरा विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल और पूरा देश रिंकू शर्मा के परिवार के साथ खड़ा है और उन्हें न्याय अवश्य मिलेगा तथा प्रखंड अध्यक्ष दिनेश सिंह ने पुलवामा में शहीद हुए जवानों पर अपनी संवेदना प्रकट की और कहा हमें सदैव अपने राष्ट्रीय के जवानों का सम्मान करना चाहिए क्योंकि हमारी रक्षा के लिए वह अपनी जान तक निछावर कर देते हैं इस मौके पर प्रखंड उपाध्यक्ष कुलदीप गुप्ता एवं उपाध्यक्ष समीर तिवारी मंडल अध्यक्ष जय प्रकाश पाठक उपाध्यक्ष बृजेश उपाध्याय कोषा अध्यक्ष राकेश सिंह मंडल संयोजक अविनाश जी सहसंयोजक अमन जी  प्रखंड सुरक्षा प्रमुख अतुल सिंह बजरंगदल ग्राम संयोजक अखिलेश मोदनवाल  आदित्य साहू उत्कर्ष दुबे था सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे



सुल्तानपुर: सुल्तानपुर में युवाओ की एक संगोष्ठी के आयोजन में उपस्थित इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र नेता अभय सिंह ने चाय चर्चा मेंं युवाओ को संबोधित करते हुए कहा कि आज युवा पीढ़ी से देश को काफी उम्मीदें हैं। युवा पीढ़ी के हाथों में ही देश का भविष्य है। हमारी युवा पीढ़ी जितना सबल और सशक्त होगी, देश उतनी ही तरक्की करेगा। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि सकारात्मक सोच के साथ आगे बढें। समाज की बुराइयों का खात्मा करने के लिए भी अपना कदम बढाएं, जिससे हमार समाज सशक्त हो सके। खासकर युवाओं को नशापान से दूर रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों को दूर करने की दिशा में भी हम सबों को आगे आना होगा।

सुल्तानपुर:  आखिल भारतीय पूर्व सैनिक परिषद सुल्तानपुर के जिलाध्यक्ष रेवती रमण तिवारी ने पुलवामा के शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि जब एक वीर जवान अपने देश की अस्मिता की रक्षा करते हुए जान दे देता है, तो मर कर भी अमर हो जाता है और हमेशा के लिए लोगों के दिल में बस जाता है. उसकी शौर्य गाथाएं इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाती हैं. 

दो वर्ष पूर्व पुलवामा हमले के शहीदों को शहीद स्तंभ स्थल पर पहुंचकर रेवती रमण तिवारी समेत दर्जनों लोगों ने श्रद्धांजलि दी। इस अवसर भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष डॉक्टर आर ए वर्मा, जिला महामंत्री विजय प्रताप त्रिपाठी जिला उपाध्यक्ष आलोक कुमार आर्य उपाध्यक्ष श्रीप्रकाश सिंह, रेनू सिंह गोमती  मित्र मंडल के रूद्र प्रताप सिंह रतन, डॉ दिनकर, भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष रामेंद्र सिंह राणा,सचिदा, राहुल,मोनू, संजय कसौधान राहुल सेठ,  आदि लोग उपस्थित रहे

 


सुल्तानपुर:- अनियंत्रित कार की टक्कर से BBA छात्र की मौत का मामला। घटना से नाराज ABVP जिला संयोजक आशुतोष त्रिपाठी के अगुआई में सैकड़ों छात्रों ने किया KNIMT के पास अयोध्या प्रयागराज मार्ग जाम।

 

 


उत्तर प्रदेश प्रदेश के सबसे बड़े कृषि छात्र संगठन उत्तर प्रदेश कृषि छात्र संघ (UPASO) के प्रदेश अध्यक्ष मा. भास्कर दुबे जी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में अखण्ड प्रताप सिंह को प्रदेश सचिव के पद पर निर्वाचित किया गया वर्तमान में अखण्ड सिंह प्रो. राजेंद्र सिंह (रज्जू भैया) विश्वविद्यालय प्रयागराज  (पूर्व में इलाहाबाद विश्वविद्यालय) से बीएससी एजी के छात्र हैं एवं प्रयागराज मंडल के वरिष्ठ कृषि छात्र नेता है इसके पूर्व कुलभास्कर आश्रम कृषि कॉलेज इला. के छात्र परिषद के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं अखण्ड सिंह ने कहा हमारा जीवन का एकमात्र उद्देश्य छात्रों एवं किसानों की हित के लिए लड़ना है इसके पहले भी छात्रों के हित में विरोध धरना प्रदर्शन घेराव आदि  किया अखण्ड सिंह फतेहपुर जनपद की दतौली गांव की मूल निवासी हैं

     सुलतानपुर 07 फरवरी/प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री जी का प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार जनपद सुलतानपुर में 08 फरवरी को पूर्वान्ह 11ः30 बजे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर निर्माणाधीन ग्राम कलवारी बांध सुलतानपुर में रेलवे उपरगामी सेतु का निरीक्षण व कार्यों (अरवल कीरी करवत) में एयर स्ट्रिप का स्थलीय निरीक्षण/निर्माण कार्यों की समीक्षा को दृष्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी रवीश गुप्ता व पुलिस अधीक्षक डॉ0 अरविन्द चतुर्वेदी द्वारा अरवल कीरी करवत कार्यक्रम स्थल पर सभी सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठक कर निर्देशित किया कि अपने-अपने दायित्वों का निर्वहन ईमानदारी से करें। 

           तत्पश्चात जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक व अपर जिलाधिकारी(प्रशासन) तथा अपर जिलाधिकारी(वि0/रा0) सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारियों के साथ हेलीपैड अरवल कीरी करवत का निरीक्षण कर महत्वपूर्ण जानकारियाँ सम्बन्धित अधिकारियों से प्राप्त कर सम्बन्धित को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। मा0 मुख्यमंत्री जी अपरान्ह 01ः00 बजे उपरोक्त निरीक्षण/समीक्षा के पश्चात जनपद अयोध्या के लिये राजकीय हेलीकाप्टर द्वारा प्रस्थान करेंगे। 

----------------------------------------------------

जिला सूचना कार्यालय सुलतानपुर द्वारा जनहित में प्रसारित।

पत्रकार जगदीश पीयूष अब दुनिया में नहीं रहे कवि, पत्रकार, राजनेता, शिक्षाविद्, समाजसेवी, बिजनेसमैन, के रूप में सामाजिक अन्दोलन के रहनुमा बने ।
गौरीगंज /अमेठी। खादी इण्डिया के नायक जगदीश पीयूष पत्रकार अब दुनिया में रहे। साहित्यकार, राजनेता,, शिक्षाविद्, बिजनेसमैन, के रूप सामाजिक अन्दोलन सफलतापूर्वक चलाया और कदम डगमागाया नहीं। यही नहीं रणन्ञजय इण्टर कालेज गौरीगंज में कार्यालय लिपिक के रुप में अपनी अलग-अलग पहचान बनाई थी। जगदीश पीयूष पत्रकार ही नहीं संपादक अमेठी समाचार पत्र के रहे। और सफल प्रकाशन अमेठी संस्करण का किया। अन्य समाचार पत्र, पत्रिकाओं, समाचार एजेंसी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया से अजीवन जुड़े रहे। अमेठी की राजनीति में संजय गांधी, राजीव गाँधी, इन्दिरा गांधी, कैप्टन सतीश शर्मा, सोनिया गाँधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी के साथ जुडने और कार्य करने का मौका भी नहीं गवाया। खादी इण्डिया के प्रेमी रहे हैं। कुर्ता और पैजामा, गांधी टोपी, गले गमछा वक्त के साथ पहनने के सौकीन थे। चेहरे पर मुस्कान साफ रहतीं थीं। किसी से मन मुटाव का एहसास नहीं होने देते थे। यही नहीं उम्र में भी कम और अधिक का भेद भाव नहीं रखते थे। राजनीति में पद की लोलुपता नहीं। नेता और कार्यकर्ता दोनों रूपों में काम किया। कांग्रेस पार्टी में राष्ट्रीय, प्रदेशीय, मण्डलीय, जनपदीय, बिधान सभा स्तरीय सम्मेलन में उपस्थित रहते थे। अपनी भाषा बहुत सरल और सहज भाव से कहा करते थे। कवि के रूप में सामाजिक अन्दोलन के रहनुमा बने। अवध की दुनिया, अवध भूमि, गांव की बोली बानी, हिन्दी और ऊर्दू भाषा में साहित्य के क्षेत्र में भी काम किया है। हिंदी भाषा के क्षेत्र में कई सम्मान भी अमेठी के नाम पर अर्जित किया। कई देशों की राजनीति में और साहित्य के क्षेत्र यात्राएं भी की है। गांधी परिवार के करीब संबंध रहे। पंडित जगदम्बा प्रसाद त्रिपाठी मनीषी जी के साथ इण्टर कालेज गौरीगंज में नौकरी भी की। गौरीगंज में राजीव गांधी साइंस कॉलेज, पीयूष प्रशिक्षण महाविद्यालय के संस्थापक जगदीश पीयूष रहे। प्रेट्रोलपम्प गौरीगंज में संचालित हैं। जन्म भूमि ग्राम पंचायत कसारा है। लेकिन कर्म भूमि गौरीगंज रहीं। गौरीगंज में बिकास की गतिविधियों में शामिल रहे। जगदीश पीयूष ने अपने पद चिन्हों पर अपने पुत्र राकेश पाण्डेय को राह पकडा दी है। दिल्ली में प्रवास करते हैं। गांधी परिवार के अमेठी दौरे पर आस पास नजर आते हैं। मीडिया से जुड़े। दूसरे बेटे अनूप पाण्डेय अमेठी में प्रतिष्ठान है। सबसे छोटे बेटे अनुराग पाण्डेय जो गौरीगंज में ही प्रवास करते हैं। जगदीश पीयूष पखवारे भरे मेदांता अस्पताल लखनऊ में इलाज हुआ। वहाँ से गौरीगंज लाएं गये। फिर संजय गांधी चिकित्सालय मुंशीगंज में भर्ती कराया गया। लेकिन अब पत्रकार पीयूष जी अब दुनिया में उनके योगदान की पहेलियां बन कर अमेठी में रह गई। और पांच फरवरी 2021 की रात दस बजे आसामयिक निधन हो गया। पत्रकार जगदीश पीयूष के आसामयिक निधन पर मीडिया जगत में गहरा शोक व्यक्त हैं। पत्रकारिता जगत के क्षेत्र में राजेश मिश्र, दिलीप सिंह, रविन्द्र तिवारी, चिन्ता मणि मिश्र, बिनोद श्रीवास्तव, डा बृजेश कुमार उपाध्याय, दिनकर श्रीवास्तव, अशोक शाहू, डां अंगद सिंह, कंचन सिंह, बी पी सिंह, सन्तोष श्रीवास्तव, तारकेश्वर मिश्र, 3 कंचन सिंह, के के मिश्रा, कौशल किशोर मिश्र, महेंद्र बरनवाल, धवन मिश्रा,मीनाक्षी मिश्रा,स्वामी नाथ शुक्ल, लाल जी तिवारी, अमरीष मिश्र अखिलेश मिश्र, राम धीरज यादव, हरिकेश यादव,सुधीर रंजन दूबे, अनिल भदौरिया, सूर्य भान दूबे, सूर्य भान मिश्रा, बिजय चन्द्र मिश्र,टीवी राय, चन्दन दूबे, मधुसूदन मिश्र, अमित कुमार मिश्र, सूर्य प्रकाश शुक्ल, अर्जुन शुक्ल, डॉ आशीष त्रिपाठी, डा धर्मेंद्र तिवारी, दर्शन शाहू, राज कुमार जायसवाल, अशोक कुमार श्रीवास्तव, सतीश बरनवाल, माता प्रसाद शुक्ल, अशोक सिंह, शिव प्रकाश ,राज खन्ना ,सत्यदेव तिवारीआदि ने स्व श्री जगदीश पीयूष के आसामयिक निधन पर गहरा शोक जताया है और ईश्वर अपने चरणों में परम पद प्रदान करे। अमेठी जलविरादरी संयोजक एवं पर्यावरणविद् डॉ अर्जुन पांडेय, प्रोफेसर डॉ राधेश्याम त्रिपाठी, शिक्षाविद् पंडित जगदम्बा प्रसाद त्रिपाठी मनीषी, सरला त्रिपाठी, प्रबंधक ज्ञानेन्द मनीषी, कवि राम बदन पथिक, चन्द्र प्रकाश पाण्डेय"मंजूल "समाज सेवी मोहम्मद आलम, राकेश अग्रवाल, पवन अग्रवाल, ठेकेदार के डी मिश्र, डॉ के डी मिश्र, आदि शोक व्यक्त किया है। कांग्रेस बिधान परिषद् के नेता एवं एम एल सी दीपक सिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष अमेठी प्रदीप सिंघल, कांग्रेस पिछड़ा प्रदेश महासचिव सुनील कुमार सिंघल, युवा कांग्रेस अध्यक्ष अमेठी सकील ईदरीशी,कांग्रेस सेवादल जिला अध्यक्ष राम बरन कश्यप, युवा सेवा दल जिलाध्यक्ष अजीत यादव, कांग्रेस छात्र संगठन जिला अध्यक्ष सौरभ मिश्र, पूर्व विधायक राधेश्याम कनौजिया, पूर्व विधायक शिव बालक पासी, पूर्व विधायक हरि चरण यादव, पूर्व यम एल सी राकेश कुमार मिश्रा, पूर्व कांग्रेस पार्टी जिला अध्यक्ष योगेन्द्र मिश्र,मुन्ना सिंह त्रिसुण्डी माता प्रसाद बैश्य, अशोक कुमार सिंह हिटलर, राम सजीवन दूबे, डा अरविंद कुमार चतुर्वेदी, बिनोद मिश्र बिनय, डा नरेंद्र मिश्र, अनिल शुक्ल, मोहम्मद आसिफ, कृपा शंकर यादव , अशोक शुक्ल, हीरा मणि कनौजिया, कांग्रेस जिला महामंत्री बीरेंद्र कुमार मिश्रा, जिला महामंत्री सुनील कुमार सिंह, राजू पंडित, मोहम्मद नाईम, पूर्व जिला पंचायत सदस्य कलावती मौर्य, कांग्रेस नेता टी यन त्रिपाठी, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी सदस्य प्रेम नारायण त्रिपाठी, राज कुमार पांडेय, राम बरन पाण्डेय, श्याम तिवारी, लालजी शुक्ल, उदय राज यादव, भारत धुरिया, डा जगदीश प्रसाद पाण्डेय, मोहम्मद फारूक अहमद बाबर, सर्वेश सिंह, राजाठाकुर आदि नेताओं ने स्व श्री पीयूष के निधन पर शोक व्यक्त किया है। कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महासचिव पूर्व सांसद राकेश सचान, अमेठी लोकसभा प्रभारी एवं प्रदेश सचिव फरहान वारसी, आखिल कांग्रेस कमेटी सचिव जुबेर आलम, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी, कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी, कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व सांसद अकबर अहमद डम्पी, पूर्व सांसद एवं उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, नेहरू युवा केन्द्र संगठन नई दिल्ली के पूर्व महानिदेशक अखिल बक्शी, पूर्व सांसद प्रमोद कुमार तिवारी, कांग्रेस बिधान मण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा, कांग्रेस कमेटी उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार उर्फ लल्लू आदि नेताओं ने स्व श्री पीयूष जी के आसामयिक निधन पर शोक जताया है। कांग्रेस कमेटी भेटुआ अध्यक्ष सूर्य भान सिंह, भादर अध्यक्ष संजय कुमार यादव, संग्रामपुर अध्यक्ष राकेश कुमार मौर्य, अमेठी अध्यक्ष देव मणि त्रिपाठी आदि ने कांग्रेस नेता स्व श्री पीयूष के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

 


 सुलतानपुर :श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में वैसे तो रामजानकी के एक हजार से विश्व हिन्दू परिषट अधिक मंदिर हैं पर राम जन्मभूमि पर विभाग कार्यालय भारत माता के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद का प्रगटीकरण मंदिर हिन्दू होगा श्रीराम आस्था से जुड़ा मंदिर । उक्त बातें चौक स्थित विश्व हिन्दू परिषद के कार्यालय पर प्रेसवार्ता करते हुए क्षेत्र संगठन मंत्री अम्बरीश जी ने कही । उन्होंने आगे कहा कि - श्रीराम मंदिर भारत माता के पुत्रों के पुरुषार्थ का प्रगटीकरण होगा । मंदिर निर्माण को हिन्दू जन भावना से जोड़ते हुए क्षेत्र संगठन मंत्री अम्बरीश जी ने आगे बताया कि पूरा हिन्दू समाज मंदिर निर्माण के लिए आगे आए इसके लिए विश्व हिन्दू परिषद ने मकर संक्रांति से लेकर माघ पूर्णिमा तक 12 करोड़ हिन्दू परिवारों को जोड़ने का लक्ष्य रखा है । परिषद द्वारा तीन तरह के 10,100,1000 के कूपन बनाए गए हैं जिनसे हर हिन्दू परिवार में जाकर सामर्थ्य के अनुसार सहयोग राशि ली जाएगी । इसके अलावा 10 हजार के भी कूपन निर्मित किए गए हैं । जो श्रीराम मंदिर में आस्था रखने वालों लोगो के लिए होगा । प्रेसवार्ता में विभाग अध्यक्ष नागेन्द्र सिंह , संगठन मंत्री उमाकांत , प्रान्त सहसंयोजक आनन्द प्रकाश शुक्ल , सुशील सिंह , नगर विभाग प्रमुख प्रशांत गौरव श्रीवास्तव,सौरभ राजन तिवारी के साथ विश्व हिन्दू परिषद के मीडिया प्रभारी शुभम तिवारी मौजूद रहे ।

सुल्तानपुर:श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े,विश्व हिन्दू परिषद के फायर ब्रांड नेता, क्षेत्रीय संगठन मंत्री अंबरीश का जनपद आगमन कल यानी 26 जनवरी को होगा।

विश्व हिन्दू परिषद के मीडिया प्रभारी शुभम तिवारी ने बताया कि सुल्तानपुर विभाग के विश्व हिन्दू परिषद के विभाग संगठन मंत्री उमाकांत ने संगठन को अवगत कराया है कि,क्षेत्रीय संगठन मंत्री अंबरीश सिंह अपने वाहन से विभाग कार्यालय विश्व हिन्दू परिषद सुल्तानपुर में 3 बजे अपराह्न के आस-पास पहुचेंगे।तद्पश्चात 4:00 अपराह्न मीडिया से रूबरू होंगे ।

आइये जानते है के विषय मे क्षेत्रीय संगठन मंत्री 

विश्व हिंदू परिषद के फायर ब्रांड वक्ताओं में से एक वक्त अम्बरीष सिंह भी है,जो कि अब क्षेत्रीय संगठन मंत्री के पद पर संगठन में कार्य कर रहे है।श्री राम जन्मभूमि आंदोलन में अम्बरीष ने प्रमुख भूमिका समय समय पर निभाई है।

 


बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बैठक कर तय किए प्रोग्राम 


28 जनवरी से 3 फरवरी तक यूपी बीजेपी की प्रदेश भर में ताबड़तोड़ बैठके 


प्रदेश के सभी 1600 ग्रामीण संगठनात्मक मंडलों में होंगी बैठकें 


बीजेपी प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल समेत वरिष्ठ नेता वर्चुअल मीटिंग में जुड़े 


पंचायत प्रत्याशियों के लिए प्रचार करेगी यूपी बीजेपी 


बीजेपी बूथ कार्यकर्ता करेंगे जन-जन से संपर्क 


यूपी पंचायत चुनाव प्रभारी विजय बहादुर पाठक ने दी तैयारियों की जानकारी

www.prakashnewsofindia.in

अंकुर पाठक, सुल्तानपुर

Last Updated: 11 JAN 2021, 01:10 PM

सुलतानपुर: पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि 15 फरवरी तक त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों की अधिसूचना जारी हो जायेगी। मार्च के अंतिम सप्ताह से लेकर अप्रैल के प्रथम सप्ताह तक पंचायत चुनाव संपन्न हो जायेंगे। मई तक जिला पंचायत अध्यक्षों और ब्लाक प्रमुखों की भी चुनावी प्रक्रिया पूरी हो जायेगी। उत्तर प्रदेश में भाजपा समेत कोई राजनीतिक दल सिंबल नहीं देगा, लेकिन पार्टी समर्थित प्रत्याशियों को उतारा जायेगा। भाजपा ग्रामीण क्षेत्रो में अपनी चार साल की उपलब्धियों और कार्यकर्ताओं की सक्रियता के बल पर चुनाव जीतेगी।

सर्किट हाउस में पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह ने क्षेत्रीय अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी के साथ बरेली और आंवला जिले के भाजपा नेताओं के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि 15 फरवरी को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद मार्च के अंत या फिर अप्रैल के पहले सप्ताह में ग्राम पंचायत के चुनाव सम्पन्न करवा लिए जाएंगे। इसके बाद क्षेत्र पंचायत और फिर जिला पंचायत का चुनाव कराया जाएगा। मई में त्रिस्तरीय चुनाव सम्पन्न हो जायेंगे। पंचायत चुनाव में आबादी के हिसाब से आरक्षण रहेगा। परिसीमन का कार्य पूरा हो चुका है। वार्डों के हिसाब से मतदाता सूची तैयार की जा रही हैं। बीस जनवरी के बाद जिला पंचायत, ब्लाकों का आरक्षण जिले से तय किया जायेगा।

www.prakashnewsofindia.in

अंकुर पाठक, सुल्तानपुर

Last Updated: 11 JAN 2021, 01:00 PM


सुलतानपुर: पांच वर्ष के बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का समय आ गया है। अब बारी है प्रधान कौन बनेंगे। उसी का सूरज खुशियों के साथ उगेगा और वोटर भी तोप से वोट के गोला दागेंगे तथा प्रधानजी भी जीतने के बाद प्लेन से उड़ान भगेंगे। इसके लिये बैलेट पेपर भी आ गये हैं। जिन पर मतदान के लिये तरह-तरह के चुनाव चिह्न भी जारी किये गये हैं। 

जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को तैयारियां रफ्तार से चल रही हैं। मतदान की प्रक्रिया को अधिसूचना का इंतजार है। इस बार मतदान के दौरान ग्राम प्रधान के पद पर 45 लोग चुनाव लड़ने का एक गांव से प्रवाधान होगा। प्रधानी के चुनाव में 45 लोग दावेदार हो सकेंगे। इनके लिये अलग-अलग चुनाव चिह्न का मतपत्र होगा। बता दें कि इस बार चुनाव के लिये मतपत्र पर तोप से लेकर हवाई जाहज (प्लेन) तक का चिह्न भी रहेगा। इसके अलावा उगता सूरज, हल जोतता किसान, इमली, अनार, पुस्तक जैसे चिह्न रहेंगे। जिनके माध्यम से प्रधानों की पांच वर्ष के लिये किस्मत लिखी जायेगी। दहगवां के नगर पंचायत बनने के बाद जिले में 1,037 ग्राम पंचायतों पर चुनाव कराया जायेगा।  त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव होने वाला है। इसके लिये तीन प्रकार के अलग-अलग मतपत्र मिलेंगे। जिसमें ग्राम प्रधान पद के लिये अलग, वार्ड सदस्य के लिये अलग, जिला पंचायत सदस्य पद के लिये अलग मतपत्र मिलेगा। तीनों मतपत्रों के अलग-अलग रंग होंगे, जिन पर मतदान करके मतपेटिका में मतपत्र डाला जायेगा। 

डॉ. पीएस पटेल, सहायक चुनाव अधिकारी बताते हैं कि निर्वाचन आयोग से मतपत्र आ गये हैं, चुनाव चिह्न प्रकाशित हैं। चुनाव में काफी ज्यादा संख्या में चुनाव चिह्न हैं और अलग-अलग पद के लिये मतपत्र आये हैं। प्लेन और हल जोतता किसान जैसे कई चिह्न पुराने भी हैं। बाकी कुछ नये चिह्न आये हैं। प्रशासन निर्वाचन की तैयारियां जोरशोर से कर रहा है।


सुधांशु पांडे-अमेठी|PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated:Thus20Aug 2020; 05:03:00 PM





महिला सुरक्षा बाल विकास अधिकरण की संरक्षक सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री और कांग्रेस नेत्री  नगमा के अनुदान से अमेठी में लगातार गरीब मजदूर मजबूर महिलाओं और बच्चों को सहायता दी जा रही है सहायता में महिलाओं को राशन किट और बच्चों को दूध, बिस्किट वितरण किया जा रहा है यह कार्य नगमा जी के अनुदान से प्रियंका गांधी जी के प्रयास से  महिला सुरक्षा बल विकास अधिकरण के चेयरमैन अरुण त्रिपाठी और उनकी टीम की अथक मेहनत से महिला सुरक्षा बाल विकास अधिकरण का यह कार्य भारत के कई प्रांतों में लगातार चल रहा है आज उसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए संसदीय क्षेत्र अमेठी के  तिलोई विधानसभा अंतर्गत डिघिया गांव में गरीब महिलाओं को राशन किट और बच्चों को दूध बिस्किट और लंच का पैकेट वितरण किया गया
बड़े हर्ष  की बात है कि आज भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न आधुनिक युग के निर्माता माननीय श्री स्वर्गीय राजीव गांधी जी जो की अमेठी को विश्व पटल पर पहचान दिलाने के जनक का जन्मदिन है इस मौके पर अमेठी के जिला अध्यक्ष  प्रदीप सिंघल जी और महासचिव  नरसिंह बहादुर सिंह जी महिला सुरक्षा बाल विकास की अधिकरण की टीम शुभम सिंह दुर्गेश दिक्षित जी
अमेठी लोकसभा के वरिष्ठ कांग्रेसी सिपाही राकेश मिश्रा पूर्व प्रमुख ,मोहम्मद लतीफ, राम प्रसाद गुप्ता एडवोकेट रवि बाजपेई हरिनाम सिंह सत्यदेव यादव, कार्यक्रम प्रभारी दुर्गेश दिक्षित ने कार्यक्रम को सफलता पूर्वक सम्पन्न कराया जिसमे वरिष्ठ कांग्रेस के सिपाही उपस्थित रहे
आज कांग्रेस के वरिष्ठ कांग्रेसी जन इस शुभ अवसर पर मौजूद रहे हम सभी को धन्यवाद देते हैं और उम्मीद करते हैं कि हमारा कार्य इसी तरीके से भारत के कोने कोने में चलता रहेगा आप लोगों का साथ रहेगा तो हम जरूर अपने मकसद में कामयाब होगे नगमा जी का नारा है उनका कहना है कि देश में कोई भूखा न सोने पाए उसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए महिला सुरक्षा बल विकास अधिकरण लगातार गरीब बच्चों को गरीब महिलाओं को राशन की और खाद्य सामग्री उपलब्ध करवा रही है ।




ट्विटर पर किया ट्वीट

कोरोना के शुरूआती लक्षण दिखने पर मैंने टेस्ट करवाया और रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मेरी तबीयत ठीक है परन्तु डॉक्टर्स की सलाह पर अस्पताल में भर्ती हो रहा हूँ। मेरा अनुरोध है कि आप में से जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे संपर्क में आयें हैं, कृपया स्वयं को आइसोलेट कर अपनी जाँच करवाएं।








को रोना महामारी के चलते तैयारियां नहीं होने पाने के कारण त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव समय से नहीं हो पाएंगे। पंचायती संस्थाओं का कार्यकाल पूरा होने से पहले ही उनमें प्रशासक तैनात कर दिए जाएंगे। ग्राम पंचायत में सहायक विकास अधिकारी (पंचायत), क्षेत्र पंचायत में उप जिलाधिकारी और जिला पंचायत में जिलाधिकारी को प्रशासक बनाने की तैयारी है। पंचायत चुनाव वर्ष 2021 में होने की संभावना जताई जा रही है।

उत्तर प्रदेश में 58758 ग्राम पंचायत, 821 क्षेत्र पंचायत और 75 जिला पंचायत हैं। इनके चुनाव इसी साल के आखिर तक होने थे। चुनाव की तैयारियां में कम से कम 6 महीने लगते हैं। वर्ष 2015 में इन चुनाव के लिए फरवरी-मार्च से ही तैयारी प्रारंभ हो गई थी। ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत के निर्वाचन क्षेत्र (वार्ड) निर्धारण की समय सारिणी 16 मार्च को जारी कर दी गई थी।

इसके लिए डीएम की अध्यक्षता में चार सदस्यीय कमेटी बनाई गई थी। 4 अप्रैल को इसका संशोधित कार्यक्रम जारी हुआ। राज्य निर्वाचन आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायतों की वोटर लिस्ट के पुनरीक्षण का कार्यक्रम 18 मई से प्रारंभ कर दिया था। 11 अगस्त से पंचायती संस्थाओं के आरक्षण की प्रक्रिया प्रारंभ हो गई थी। लेकिन कोविड-19 के चलते इस बार मार्च से चुनाव की तैयारी शुरू नहीं हो पाईं। जैसे हालात दिख रहे हैं उनके हिसाब से ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत के चुनाव इस बार एक साथ हो सकते हैं।

नहीं पूर्ण हो सकी वोटर लिस्ट पुनरीक्षण व परिसीमन की प्रक्रिया 

वोटर लिस्ट पुनरीक्षण व परिसीमन की प्रक्रिया अटकी
25 मार्च से लॉकडाउन के बाद लगभग दो महीने तक प्रदेश में प्राय: सभी कामकाज लगभग ठप रहे। इसके बाद से सभी जिले कोरोना संक्रमण का प्रसार रोकने में जुटे हैं। इसमें पंचायतीराज विभाग भी शामिल है। लिहाजा, न तो वोटर लिस्ट का पुनरीक्षण हो पाया है और न ही पंचायतों के  परिसीमन की प्रक्रिया शुरू हो पाई है।

पूर्व में कब हुए थे,चुनाव

2015 में 9 अक्तूबर से 9 दिसंबर तक हुए थे चुनाव
2015 में क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत सदस्य के चुनाव 4 चरणों में 9 से 29 अक्तूबर के बीच हुए थे। इसके लिए 21 सितंबर को अधिसूचना जारी की गई थी। ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सदस्य के चुनाव भी 4 चरणों में 28 नवंबर से 9 दिसंबर के बीच हुए थे। इसकी अधिसूचना 7 नवंबर को जारी हुई थी। विभागीय अधिकारियों का मानना है कि यदि अभी तैयारी शुरू हो जाए तो भी नियत समय में चुनाव प्रक्रिया पूरी करना संभव नहीं है। हालांकि, अभी तैयारी प्रारंभ करने के हालात ही नहीं है। ऐसे में पंचायत चुनाव अब 2021 में ही संभव है।

क्या कहते है,पंचायतीराज मंत्री, उत्तर प्रदेश

पंचायतीराज मंत्री, उत्तर प्रदेश भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने बताया कि अभी चुनाव स्थगित करने का फैसला नहीं हुआ है। कोरोना के कारण तैयारियां पिछड़ी जरूर हैं, लेकिन अभी हमारे पास समय है। यदि संक्रमण के हालात शीघ्र नियंत्रण में आ गए तो चुनाव की तैयारी प्रारंभ कर दी जाएगी। हालात जल्द नहीं सुधरे तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष पूरा मामला रखा जाएगा। चुनाव टालने व पंचायती संस्थाओं में प्रशासक की नियुक्ति के संबंध में अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री ही लेंगे।


India's Best Leaders 

India has so many leaders and some of them done outstanding job. Followings are some great leaders 

1. Mahatma Gandhi

Mahatma Gandhi 1931

Mohandas Karamchand Gandhi, Born on 2nd Gregorian calendar month 1869 in Gujarat was a professional person and have become widespread whereas fighting for the Rights of Hindu and Muslims in South Africa along with his new technique of non-Violence. Later he came to Republic of India|Bharat|Asian country|Asian nation} and Fought for the independence of India along with his own technique of Non-Violence and Satyagraha. He also worked on various social problems and believed in a simple life, Now he is known as Father of the nation(India) and United Nation Celebrates his birthday as Non-Violence Day. He is an inspiration for Millions of people all around the world. His ideology of non-Violence and truth still inspire millions of people all around the world in their struggle. He became popular for his belief in a Non-Violent struggle.
He was killed on thirtieth January 1948 By Nathuram Godse.


2. Lal Bahadur Sastri

Lal Bahadur Shastri

Lal Bahadur Shastri born on 2nd October 1904. A Gandhian, a Socialist and therefore the second Prime minister of Asian nation. He is popularly better-known for his simplicity, hard-Work and for his leadership within the 1965 war with Asian country. He was one amongst the popular Prime ministers of Asian nation and folks still keep in mind him for his simplicity. He gave the popular slogan of Jai Jawan.Jai Kissan!


3. Subhas Chandra Bose

Subhas Chandra Bose
Subhas Chandra Bose born on 23rd Jan 1897. Popularly referred to as Netaji, Was a insurrectionist and also the writer “Azad hind Fauj”. He gave a number of the known Slogans like “Jai hind”,” stomach Mujhe Khun do main tumhe Azadi” (Give ME blood, I’ll offer you Freedom) he's one amongst the popular insurrectionist of Asian nation, Earlier to the current he was a member of Congress party and was the president for a few years later he left the party. His ideas, struggle inspire millions of Indian youth. His death is one of the most controversial incidents of the world.


4. B.R.Ambedkar

Dr. Bhimrao Ambedkar


Bhimrao Ramji Ambedkar born on 14 April 1891. He was an Indian Leader, Lawyer, teacher. He was the Chairman of the Bharatn Constitution drafting committee and was the primary Law Minister of India. He Born in an exceedingly Family that was believed to be Untouchable. He raised his voice against untouchability and actively struggled for the equal right of Dalits and alternative untouchables of the country. He is thought of because the Leader of untouchables in trendy Bharat. He is a plan for innumerable Indians, particularly individuals troubled for the rights of Dalits.


5. Sardar Patel

Sardar Vallabhbhai Patel

Sardar Vallabhbhai Jhaverbhai Patel born on thirty one Gregorian calendar month 1875, Was one in every of the followers of Mohandas Karamchand Gandhi, A revolutionist and also the initial Home minister of Bharat, he's Popularly known as the “Iron Man” of Bharat for his work once independence, he's the one who was chargeable for this form of Bharat. He worked on merging over 550+ Kingdoms to Bharat once independence.


6. Jayprakash Narayan 

Jayprakash Narayan

Jayaprakash Narayan born on eleven Gregorian calendar month 1902, Popularly called JP Narayan, Jayaprakash, or Loknayak, Was a rebel, a Gandhian and a socialist. He actively participated in freedom Fighting, And within the Sarvodaya Andolan with Vinoba Bhave. He is widespread for his Struggle throughout the Emergency against the Indian Prime minister of that point Indira Gandhi, He had conjointly been awarded Republic of India Ratna (The Highest Civilian Award in India).

7. Deen Dayal Upadhyay

Deen Dayal Upadhyay

Pandit Deendayal Upadhyaya born on 25 September 1916 was an Indian philosopher, economist, sociologist, historian, journalist, political activist and was one of the prominent leaders of Bharat Jana Sangh, he was associate proponent and a inspiration for an alternate model of governance and politics. He was one among those Leader United Nations agency engineered the Bhartiya Jana Sangh that is currently referred to as Bhartiya Janata Party. He was killed in a mysterious way in Mughal Sarai railway station (Varanasi) while he was travelling in a train.

8. Indira Gandhi

Indira Gandhi

India Gandhi Born 19 November 1917, Daughter of the First Indian Prime minister, and the third prime Minister of India. The First and only Woman Prime minister of India till now, She served as the Prime Minister of India Consecutively and was also elected for the fourth time after a gap. She is thought because the Iron Lady of Republic of India, she is Popularly acknowledged for her daring call like 1971 India-Pak War that shaped a brand new country Bangla Desh. She was killed in 1984 by her bodyguards.

9. Rajiv Gandhi

Rajiv Gandhi

Gandhi was a descendent of the politically powerful Nehru–Gandhi family, that had been related to the Indian National Congress party. For abundant of his childhood, his maternal grandparent national leader was Prime Minister. Gandhi attended college in the United Kingdom. He came to India in 1966 and have become knowledgeable pilot for the state-owned Indian Airlines. In 1968 he married Sonia Gandhi; the couple settled in Old Delhi to a domestic life with their kids Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi Vadra. For abundant of the Nineteen Seventies, his mother national leader was prime minister Associate in Nursingd his brother Sanjay Gandhi an MP; despite this, Rajiv Gandhi remained nonpolitical. After Sanjay's death in Associate in Nursing airplane crash in 1980, Gandhi reluctantly entered politics at the bidding of Indira. The following year he won his brother's Parliamentary seat of Amethi and have become a member of the Lok Sabha—the lower house of India's Parliament. As a part of his political grooming, Rajiv was created a general secretary of the Congress party and given vital responsibility in organising the 1982 Asian Games.


10. Narendra Damodar Das Modi

Narendra Modi

Narendra Damodardas Modi  born seventeen Gregorian calendar month 1950) is associate degree Indian politician serving because the ordinal and current Prime Minister of India since 2014. He was the Chief Minister of Gujarat from 2001 to 2014, and is that the Member of Parliament for Varanasi. Modi may be a member of the Bharatiya Janata Party (BJP), and of the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS), a Hindu nationalist volunteer organisation. He is the primary prime minister outside of the Indian National Congress to win 2 consecutive terms with a full majority, and therefore the second to finish 5 years in office after Atal Bihari Vajpayee.
Born to a Gujarati family in Vadnagar, Modi helped his father sell tea as a baby, and has aforesaid he later ran his own stall. He was introduced to the RSS at the age of eight, starting an extended association with the organisation. Modi left home once finishing high-school partly because of associate degree organized wedding to Jashodaben Chimanlal, that he abandoned, and in public acknowledged solely several decades later. Modi cosmopolitan around India for 2 years and visited variety of non secular centres before returning to Gujarat. In 1971 he became a regular employee for the RSS. During the state of emergency obligatory across the country in 1975, Modi was forced to travel into concealing. The RSS allotted him to the BJP in 1985, and he command many positions among the party hierarchy till 2001, rising to the rank of general secretary.



ज्योतिष

[ज्योतिष][carousel1 autoplay]

अपना सुलतानपुर

[अपना सुलतानपुर][carousel1 autoplay]

दि अन्नदाता

[दि अन्नदाता][carousel1 autoplay]

टेक्नोलॉजी

[टेक्नोलॉजी][carousel1 autoplay]

देश

[देश][carousel1 autoplay]

प्रदेश

[प्रदेश][carousel1 autoplay]

कारोबार

[कारोबार][carousel1 autoplay]

खेल समाचार

[खेल समाचार][carousel1 autoplay]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget