Articles by "विश्व"


पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी तनाव को कम करने के लिए दोनों तरफ से कोशिशें तेज कर दी गई हैं। 

अमर उजाला की ख़बर के अनुसार पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के पास स्थित फिंगर 4 एरिया से चीनी सैनिक पीछे हटना शुरू कर दिया है।

आपको बता दें कि पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे स्थित इस पहाड़ी पर चीनी सैनिकों ने लंबे समय से कब्जा कर रखा था लेकिन भारत सरकार की रणनीति यहां पर काम आई। सरकार नें अपने इरादे मजबूत रखे और चीनी सेना पीछे हटने को मजबूर हो गई।

कई मीडिया चैनल और रिपोर्ट्स के अनुसार चीन ने फिंगर 5 और फिंगर 8 के बीच अपने कई शेल्टर्स और  ढांचे को भी हटा लिया है।

भारत के सीरम इंस्टिट्यूट में बनने वाले कोरोना वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। डब्ल्यूएचओ ने सोमवार को दो वैक्सीन के इमरजेंसी यूज को मंजूरी दी है। दोनों ही वैक्सीन ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका ने बनाए हैं।

सोमवार को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की वैक्सीन के दो संस्करणों को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी गई है ताकि दुनिया भर में कोवैक्स के तहत टीकाकरण को आगे बढ़ाया जा सके।

दरअसल, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को भारत की सीरम इंस्टिट्यूट बनाती है। इसके अलावा दक्षिण कोरिया की एसके बायो कंपनी भी इस वैक्सीन को बनाती है। WHO ने दोनों ही कंपनियों द्वारा बनाई गई कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दी है।

दरअसल, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन फाइजर जैसी अन्य वैक्सीन के मुकाबले में सस्ता और इस्तेमाल में आसान है। WHO ने सोमवार को कहा कि ऑक्सफोर्ड एस्ट्रेजेनेका की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने के बाद कोवैक्स प्रोग्राम के तहत दुनिया के कई देशों को वैक्सीन दिए जाने का काम तेज हो जाएगा

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated:  Thu, 02 July 2020; 12:00:00 PM
रूस में संविधान संशोधन के लिए जनमत संग्रह अभियान बुधवार को पूरा हो गया। यह 7 दिन तक चला। कोरोना संकट के कारण पहली बार रूस में किसी वोटिंग में इतना वक्त लगा। हालांकि, वोटिंग ऑनलाइन हुई। करीब 60% वोटरों ने मतदान किया। रूस की जनता ने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (67) को 2036 तक पद पर बनाए रखने के समर्थन और विरोध में वोट दिए।

नतीजे बाद में आएंगे, लेकिन सरकारी एजेंसी वत्सोम के सर्वे में पुतिन के सत्ता विस्तार को समर्थन मिल रहा है। इसके मुताबिक 76% लोगों ने संविधान में संशोधन का समर्थन किया है। वास्तविक नतीजे भी ऐसे ही रहे तो पुतिन मौजूदा कार्यकाल के बाद 6-6 साल के लिए फिर दो बार राष्ट्रपति होंगे।

उनका कार्यकाल 2024 में समाप्त होने वाला है। पुतिन ने कहा कि हम उस देश के लिए मतदान कर रहे हैं, जिसके लिए हम काम करते हैं और जिसे हम अपने बच्चों और पोते-पोतियों को सौंपना चाहते हैं।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated:  Mon, 29 Jun 2020; 09:15:00 AM
   
चीन अपने आक्रामक रवैये और विस्तारवादी नीतियों के कारण एशिया में घिरता जा रहा है। भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव चरम पर है, वहीं पूर्वी चीन सागर में द्वीपों को लेकर ड्रैगन का जापान से भी विवाद है। इस बीच भारतीय और जापानी नौसेना ने हिंद महासागर में चीन के बढ़ते खतरों से निपटने के लिए संयुक्त युद्धाभ्यास किया है।

जापान ने भारतीय नौसेना के साथ किया युद्धाभ्यास

जापानी नौसेना ने ट्वीट किया कि 27 जून को जापान मैरिटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स के JS KASHIMA और JS SHIMAYUKI ने भारतीय नौसेना के आईएनएस राणा और आईएनएस कुलीश के साथ हिंद महासागर में एक अभ्यास किया। इसके जरिए जापान मैरिटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स ने भारतीय नौसेना के साथ अपने समझ और सहयोग को बढ़ाया।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Fri, 26 Jun 2020; 01:30:00 PM

नेपाल के गांवों पर चीन के कथित कब्जे के बाद से ही नेपाल के PM केपी शर्मा ओली की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सत्ताधारी नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी के चेयरमैन पुष्प कमल दहल प्रचंड खुलेआम पीएम ओली की आलोचना कर उनसे इस्तीफा मांग रहे हैं। वहीं प्रमुख विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने संसद में एक प्रस्ताव पेश किया है।
  • नेपाल विदेश मंत्रालय ने चीन के कब्जे वाली खबरों को किया खारिज, कहा- कोई पिलर गायब नहीं हुआ
  • खतरे में नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की कुर्सी, पार्टी अध्यक्ष प्रचंड ने मांगा इस्तीफा
काठमांडू: नेपाली गांव को चीन के अपने कब्जे में लेने की खबरे मीडिया में आने के बाद विवादों में फंसे प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पार्टी में उठ रहे बगावती सुर के बाद अब प्रमुख विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दरअसल, सत्ताधारी नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी के चेयरमैन पुष्प कमल दहल प्रचंड खुलेआम पीएम ओली की आलोचना कर इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। संसद में नेपाली कांग्रेस का प्रस्ताव नेपाल की विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने संसद के निचले सदन में चीन के अतिक्रमण को रेग्युलेट करने की मांग करते हुए प्रस्ताव दिया है। नेपाली कांग्रेस के सांसद देवेंद्र राज कंदेल, सत्य नारायण शर्मा खनाल और संजय कुमार गौतम ने यह प्रस्ताव पेश किया है। इसके मुताबिक, चीन नें कई जिलों की 64 हेक्टेयर की जमीन पर अतिक्रमण कर रखा है।'

आरोप: सीमा पिलर गायब किया, नदियों का रुख बदला 
बीते दिनों मीडिया में नेपाल सरकार के कृषि मंत्रालय के सर्वे डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के हवाले से दावा किया गया था कि चीन ने 10 जगहों पर कब्जा कर रखा है। यही नहीं 33 हेक्टेयर की नेपाली जमीन पर नदियों की धारा बदलकर प्राकृतिक सीमा बना दी गई है और कब्जा कर लिया गया है। चीन नें कथित तौर पर अतिक्रमण को वैध बनाने के लिए गांव के सीमा स्तंभों को हटा दिया है।

मामले में नेपाल सरकार ने बयान जारी कर दी सफाई
नेपाली विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर इन खबरों का खंडन किया है कि चीन नेपाली गांवों पर कब्जा कर रहा है। बयान में कहा गया है कि जिन खंभों के गायब होने की बात कही जा रही है, वे दरअसल वहां थे ही नहीं। हालांकि, सरकार ने अपने बयान में तिब्बत में नदियों का रास्ता मोड़कर जमीन कब्जाने को लेकर कुछ नहीं कहा है। मंत्रालय ने कहा है कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में नेपाल-चीन सीमा को लेकर अतिक्रमण की बात कही गई है। मंत्रालय का कहना है कि नेपाल और चीन के बीच 5 अक्टूबर, 1961 सीमा संधि के तहत सीमांकन किया गया था और प्रोटोकॉल पर दोनों देशों ने हस्ताक्षर किए थे।

सीमा पर खंभें लगे होने की बात से नेपाल का साफ इंकार
नेपाल सरकार ने यह सफाई भी दी है कि जिन 37 और 38 नंबर के जिन स्तंभों के गायब होने की बात कही जा रही है, वे दोनों देशों की सहमति पर प्राकृतिक हालात को देखते हुए कभी लगाए ही नहीं गए थे। मंत्रालय का कहना है कि अगर कोई मुद्दा होता है तो नेपाल सरकार संबंधित अधिकारियों से बात करके इसे सुलझा लेगी।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Fri, 26 Jun 2020; 07:02:00 AM

चीन की एशिया में बढ़ती दादागीरी के खिलाफ अमेरिका ने कड़ा रूख अख्तियार कर लिया है। अमेरिका ने यूरोप से अपनी सेना हटाकर एशिया में तैनात करने का फैसला किया है। इसकी शुरुआत वो जर्मनी से करने जा रहा है। माना जा रहा है कि अमेरिका जर्मनी में तैनात 52 हजार अमेरिकी सैनिकों में से 9,500 सैनिकों को एशिया में तैनात करेगा। अमेरिका यह कदम ऐसे समय उठा रहा है कि जब चीन ने भारत में पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास तनावपूर्ण स्थिति पैदा कर दी है, तो दूसरी ओर वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलिपीन और साउथ चाइना सी में खतरा बना हुआ है।
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने चीन को भारत और दक्षिणपूर्व एशिया के लिए खतरा बताया है। उन्होंने कहा कि भारत, मलेशिया, इंडोनेशिया, और फिलीपीन जैसे एशियाई देशों को चीन से बढ़ते खतरे के मद्देनजर अमेरिका दुनिया भर में अपने सैनिकों की तैनाती की समीक्षा कर उन्हें इस तरह से तैनात कर रहा है कि वे जरुरत पड़ने पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (चीन की सेना) का मुकाबला कर सकें। पोम्पिओ ने जर्मन मार्शल फंड के वर्चुअल ब्रसेल्स फोरम 2020 में एक सवाल के जवाब में यह कहा।


प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Tue, 23 Jun 2020; 10:45:00 AM

ट्रंप प्रशासन ने H-1B वीजा निलंबित कर दिया है। प्रशासन के अनुसार, इस साल के अंत तक वीजा निलंबन का यह फैसला अमेरिकी श्रमिकों के हित के लिए लिया गया है। अमेरिकी प्रशासन के इस बड़े फैसले से सबसे अधिक प्रभावित भारत होगा। भारतीय पेशेवरों को अब स्टैम्पिंग से पहले कम से कम साल के अंत तक इंतजार करना होगा। इसके अलावा वीजा रिन्यू कराने वालों को अब साल भर का इंतजार करना होगा। 
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि यह कदम उन अमेरिकियों की मदद करने के लिए आवश्यक था, जिन्होंने मौजूदा आर्थिक संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी है। हालांकि ट्रंप प्रशासन के इस कदम की अप्रवासियों के लिए काम कर रहे मानवाधिकार समुदाय ने कड़ी आलोचना की है। 

H-1B, H-2B, J-1 व L-1 वीजाओं पर प्रतिबंध लगने से यहां के एंप्लायर्स (Employers) समेत परिवारों, यूनिवर्सिटी, अस्पतालों, समुदायों के साथ साथ अमेरिका की आर्थिक सुधार की गति भी धीमी पड़ जाएगी। 

प्रभावित होने वाले देशों में सबसे आगे भारत
कोरोना वायरस के कारण फैली महामारी के कारण अमेरिका में बढ़ी बेरोजगारी को देखते हुए ट्रंप प्रशासन इमिग्रेशन संबंधित इस फैसले पर लंबे समय से विचार कर रहा था। राष्ट्रपति ट्रंप के इस फैसले से प्रभावित होने वाले देशों में सबसे आगे भारत है क्योंकि अमेरिका में भारतीय आइटी प्रोफेशनल्स को सबसे अधिक H-1B वीजा की जरूरत होती है।
गैर प्रवासी वीजा है H-1B  
 यह वीजा एक गैर-प्रवासी वीजा है। यह किसी कर्मचारी को अमेरिका में छह साल काम करने के लिए जारी किया जाता है।  इसके लिए कुछ प्रावधान और शर्तें हैं।  इस वीजा के लिए योग्यता भी निर्धारित की गई है। इसके तहत ग्रेजुएट होने के साथ किसी एक क्षेत्र में योग्यता हासिल होनी चाहिए। वीजा पाने वाले कर्मचारी के वेतन को लेकर भी शर्त है कि कम से कम 45 लाख रुपये सालाना आमदनी होना आवश्यक है। पांच साल तक इस वीजा के तहत वहां रहने वाले लोग अमेरिका की स्थायी नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं। 


प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Fri, 19 Jun 2020; 07:17:00 AM

लद्दाख के गलवन वैली में हुए भारत-चीन संघर्ष में बड़ी खबर आ रही है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बता रहा है कि गलवन वैली झड़प में करीब 76 जवान अस्पताल में भर्ती हैं। घायलों में किसी भी जवान की हालत गंभीर नहीं है। लेह के अस्पताल में 18 सैनिक भर्ती हैं, 15 दिन में सैनिक काम पर वापस लौटने की हालत में होंगे। अन्य अस्पतालों में 58 सैनिक हैं, उन्हें हल्की चोट हैं। वे 1 हफ्ते के अंदर काम पर वापस लौटने की हालत में होंगे।
बता दें कि इससे पहले भारतीय सेना ने कहा था कि पूर्वी लद्दाख की गलवन घाटी में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में शामिल कोई भी भारतीय सैनिक लापता नहीं है। गलवन घाटी में सोमवार की रात भारत व चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। ऐसी खबरें थीं कि झड़प के बाद सोमवार रात से 10 भारतीय सैनिक लापता थे।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Fri, 19 Jun 2020; 07:33:00 AM

दक्षिण चीन सागर और ताइवान को लेकर चल रही तनातनी के बीच अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एक ऐसे बिल पर हस्‍ताक्षर किए हैं जिससे चीनी ड्रैगन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को उइगर और अन्य जातीय अल्पसंख्यकों के खिलाफ चलाए उसके अभियान के लिए दंडित करने के लिए एक विधेयक पर हस्ताक्षर किए हैं।


प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Tue, 16 Jun 2020; 06:15:00 AM

विदेश मंत्री एस जयशंकर 22 जून को चीन और रूस के विदेश मंत्रियों के साथ त्रिपक्षीय वार्ता कर सकते हैं। राजनयिक सूत्रों ने कहा कि रूस की पहल पर बुलाई गई इस बैठक में कोरोनोवायरस महामारी से निपटने और सामान्य सुरक्षा के खतरों से निपटने के तरीकों जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार-विमर्श किया जाएगा। बता दें कि तीनों देशों के बीच यह बैठक पहले मार्च में होने वाली थी लेकिन कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के चलते इसे स्थगित कर दिया गया था। 

सूत्रों ने कहा कि इस बैठक के दौरान भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद पर चर्चा होने की संभावना नहीं है क्योंकि आम तौर पर त्रिपक्षीय प्रारूप में द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा नहीं की जाती है। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक एक वरिष्ठ राजनयिक ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर कहा, यह तीनों देशों के लिए एक साथ आने और क्षेत्रीय स्थिरता में योगदान करने के लिए हमारे विचारों को एक साथ करने के लिए क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा करने का एक अच्छा अवसर होगा।

बता दें कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास कुछ क्षेत्रों में पांच सप्ताह से ज्यादा समय से भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच तनाव का माहौल है। दोनों देश विवाद को सुलझाने के लिए सैन्य और राजनयिक स्तर पर बातचीत कर रहे हैं। रूस इस मामले में पहले ही कह चुका है कि भारत और चीन को ये सीमा विवाद आपसी बातचीत के जरिए सुलझाना चाहिए। रूस ने कहा था कि क्षेत्रीय स्थिरता के लिए दोनों देशों के बीच रचनात्मक संबंध बेहद महत्वपूर्ण हैं। 

रूस के उप मिशन प्रमुख रोमन बबुश्किन ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि हमारे भारतीय और चीनी मित्रों के बीच रचनात्मकता संबंध स्थिरता और सतत विकास पर क्षेत्रीय संवाद को बढ़ावा देने के लिए अहम हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि रूस शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ), ब्रिक्स और रूस-भारत-चीन त्रिपक्षीय मंच की आगामी बैठकों में भारत और चीन के साथ अपनी बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए उत्सुक था।

उम्मीद जताई जा रही है कि इस त्रिपक्षीय वार्ता में तीनों विदेश मंत्री इस साल फरवरी में अमेरिका द्वारा तालिबान के साथ शांति समझौते के बाद अफगानिस्तान में बन रही राजनीतिक परिस्थितियों पर भी चर्चा कर सकते हैं। बता दें कि अमेरिका ने तालिबान के साथ नौ फरवरी को एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे जिसमें अमेरिका ने अपने सैनिकों को करीब 18 साल से युद्ध की स्थिति झेल रहे अफगानिस्तान से वापस बुलाने की बात कही थी। 

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Mon, 15 Jun 2020; 06:35:00 AM

कोरोना के असरदार इलाज की लगातार कोशिशें चल रही हैं. इस बीच तेजी से फैलता हुआ ये दुनियाभर के 78 लाख से ज्यादा लोगों को संक्रमित कर चुका है. अब हाल ही में रिसर्च बता रही है कि कोरोना वायरस के म्यूटेशन से जो वायरस बना है, वो उस वायरस के कई गुना खतरनाक है, जो चीन से फैला था. बताया जा रहा है कि इस वायरस में पाई जाने वाली कांटेदार संरचना, जो हमारे शरीर में प्रवेश करने में मदद करती है, वो चार गुना से भी ज्यादा है. D614G नाम के इस वायरस स्ट्रेन को इसी बढ़ी हुई संचरना के कारण 10 गुना ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है.
इससे पहले दो तरह के म्यूटेशन दिखे थे, जिनके वायरस स्ट्रेन को G614 और D614 नाम दिया गया था. वायरस के नए स्ट्रेन को D614G नाम दिया गया है, जो ज्यादा देर तक शरीर में बना रहता है. इससे मरीज में वायरल लोड बढ़ जाता है, जिससे इलाज में ज्यादा परेशानी होती है. वैसे इससे पहले से ही वैज्ञानिक ये समझने की कोशिश कर रहे थे कि वायरस का असर दुनिया के कुछ देशों में कम, कहीं ज्यादा क्यों दिख रहा है. इसी बीच म्यूटेशन से बने इस वायरस के बारे में पता चल चुका था. ये भी देखा जा चुका था कि अमेरिका, इटली और स्पेन जैसे देशों में वायरस का यही स्ट्रेन फैला है.

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Sat, 13 Jun 2020; 06:15:00 AM

बीसीसीआई ने एक बयान में कहा, 'कोरोना वायरस के खतरों को देखते हुए भारतीय क्रिकेट टीम श्रीलंका और जिम्बाब्वे का दौरा नहीं करेगी. भारतीय टीम को 24 जून से श्रीलंका में 3 वनडे और इतने ही मैचों की टी-20 सीरीज खेलनी थी. वहीं, 22 अगस्त से जिम्बाब्वे में उसे 3 मैचों की वनडे सीरीज खेलनी थी.' बीसीसीआई ने इससे पहले, 17 मई को एक बयान जारी कहा था कि बाहर प्रशिक्षण करने को लेकर पूरी तरह से सुरक्षित होने के बाद ही बोर्ड अपने अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए प्रशिक्षण के लिए कैम्प का आयोजन करेगी.

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Fri, 12 Jun 2020; 07:10:00 AM

कोरोना वायरस के मामलों के हिसाब से भारत ने गुरुवार को ब्रिटेन को पीछे छोड़ दिया और दुनिया का चौथा सबसे प्रभावित देश बन गया. एक दिन में भारत ने स्पेन और ब्रिटेन को पीछे छोड़ दिया है. भारत में कोरोना के 2,97,205 मरीज हो गए हैं. यह जानकारी 'वर्ल्डमीटर' में दी गई है. भारत में लगातार सात दिनों से 9,500 से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. एक दिन में मृतक संख्या भी पहली बार 300 के पार पहुंची है. 'वर्ल्डमीटर' के आंकड़ों के मुताबिक, भारत कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित चौथा देश है. उससे अधिक मामले अमेरिका (20,76,495), ब्राजील (7,87,489), रूस (5,02,436) में हैं. राहत की बात ये है कि 1 लाख 41 हजार से ज्यादा लोग ठीक भी हो चुके हैं.
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार तक एक दिन में सबसे ज्यादा 9,996 मामले सामने आए तथा 357 लोगों की मौत हुई है. संक्रमण के कुल 2,86,579 मामले हो गए तथा कुल संक्रमित लोगों में से 8,102 संक्रमितों की मौत हो चुकी है. इसके साथ ही लगातार दूसरे दिन ऐसा हुआ जब स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या इलाज करवा रहे मरीजों की संख्या से अधिक रही. आंकड़ों के मुताबिक, देश में संक्रमण के कुल मामलों में 1,37,448 संक्रमितों का इलाज चल रहा है जबकि 1,41,028 लोग उपचार के बाद ठीक हो चुके हैं तथा एक मरीज देश से बाहर चला गया.

‘द डॉन’ के संपादक ने यूपी सरकार को इमरान से बेहतर बताया, कहा- वहां की आबादी हमसे ज्यादा, लेकिन कोरोना से मौतें कम!

अंकुर पाठक, सुलतानपुर |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Tue, 09 June 2020; 03:05:00 PM

कोरोना के खिलाफ जिस तरह से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जंग लड़ी है, उसकी हर तरफ सराहना हो रही है। यह अपने आप में हैरत की बात है कि कट्टर हिंदूवादी छवि के माने जाने वाले सीएम योगी आदित्यनाथ के कार्यों की तारीफ दुश्मन देश पाकिस्तान में भी हो रही है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार द डॉन के संपादक फहद हुसैन ने उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र की तुलना वहां के हालात से करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा है कि यूपी के फैसलों से सीखें और महाराष्ट्र की गलतियों से सबक लेना होगा। यह बात कई बार कही जाती रही है कि उत्तर प्रदेश की आबादी इतनी अधिक है, जितनी दुनिया के कुछ ही देशों की है। अब इसी लाइन पर आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन के स्थानीय संपादक फहद हुसैन ने कोरोना संक्रमण के असर को लेकर यूपी की तुलना अपने देश पाकिस्तान से की है।
उन्होंने एक ग्राफ साझा करते हुए लिखा है कि इसे गौर से देखें। पाकिस्तान और भारत के राज्य उत्तर प्रदेश की मृत्यु दर की तुलना करें, जबकि जनसंख्या और साक्षरता दर लगभग समान है। गौर करने वाली बात है कि पाकिस्तान का प्रति किलोमीटर जनसंख्या घनत्व यूपी से कम और जीडीपी प्रति कैपिटा अधिक है। उन्होंने लिखा है कि यूपी ने लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराया, जबकि हम (पाकिस्तान) नहीं कर सके।
लिहाजा, मृत्यु दर में अंतर सामने है। अपने ट्वीट में विदेशी संपादक ने महाराष्ट्र की तुलना भी की है। साथ ही लिखा है कि यूपी में मृत्यु दर जहां पाकिस्तान से कम है, वहीं महाराष्ट्र में ज्यादा, जबकि वहां युवा आबादी और जीडीपी प्रति कैपिटा अधिक है। हमें यह जानना चाहिए कि उत्तर प्रदेश ने क्या सही फैसले किए और महाराष्ट्र ने क्या गलतियां कीं। यूपी व पाकिस्तान की आबादी में ज्यादा अंतर नहीं है।
लेकिन कोरोना के ग्राफ में भारी फर्क है। उत्तर प्रदेश में 10,536 लोग संक्रमित हो चुके हैं। जबकि, पाकिस्तान में 98,943 लोग इस महामारी की जद में आ चुके हैं।पाकिस्तान में 2002 की संक्रमण से जान जा चुकी है जबकि यूपी में अब तक कुल 275 लोगों की मौतें हुईं है।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Tue, 09 Jun 2020; 05:40:00 AM

उत्तर कोरिया ने सीमा पर उसके खिलाफ पर्चे भेजने से अपने प्रतिद्वंद्वी दक्षिण कोरिया से उससे सैन्य और राजनीतिक संपर्कों को खत्म करने का निर्णय लिया है। कोरियाई केंद्रीय समाचार एजेंसी के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने सीमा पर उसके खिलाफ पर्चे भेजने से लोगों को नहीं रोक पाने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी दक्षिण कोरिया की निंदा की। इसके बाद उत्तर कोरिया ने सख्त ऐक्शन लेते हुए पड़ोसी देश के साथ सैन्य और राजनीतिक संपर्कों को बंद करने का फैसला किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि मंगलवार को पहले कदम के रूप में, उत्तर कोरिया एक अंतर-कोरियाई संपर्क कार्यालय में संचार की लाइन और राष्ट्रपति कार्यालयों के बीच हॉटलाइन को खत्म कर दिया। केसीएनए ने कहा कि उत्तर कोरिया के लोग दक्षिण कोरिया के अधिकारियों के विश्वासघाती और चालाक व्यवहार से नाराज हैं, जिसके चलते यह फैसला लिया गया।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Sat, 06 June 2020; 04:39:00 AM

चीन से बढ़ते सीमा विवाद के बीच विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया) और चीन में विदेश मंत्रालय के महानिदेशक के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बातचीत हुई है. जानकारी के मुताबिक संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया) नवीन श्रीवास्तव और चीनी विदेश मंत्रालय के महानिदेशक वू जियांगहो के बीच शुक्रवार 5 जून को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एक बैठक हुई. बैठक के दौरान दोनों देशों के बीच के ताजा हालातों पर भी चर्चा हुई. दोनों पक्षों ने वर्तमान घटनाक्रम सहित द्विपक्षीय संबंधों की स्थिति की समीक्षा की. इस संदर्भ में उन्होंने दोनों देशों के नेताओं द्वारा की गई सहमति को याद करते हुए कहा कि भारत और चीन के बीच शांतिपूर्ण, स्थिर और संतुलित संबंध मौजूदा वैश्विक स्थिति में स्थिरता के लिए एक सकारात्मक कारक होंगे.
बातचीत के दौरान दोनों पक्ष इस बात पर भी सहमत हुए कि शीर्ष नेतृत्वों द्वारा प्रदान किए गए मार्गदर्शन के अनुसार, दोनों पक्षों को एक दूसरे की संवेदनाओं, चिंताओं और आकांक्षाओं का सम्मान करने के महत्व को ध्यान में रखते हुए शांतिपूर्ण चर्चा के माध्यम से अपने मतभेदों को सुलझाना चाहिए और उन्हें विवाद नहीं बनने देना चाहिए. दोनों पक्षों ने बातचीत के दौरान कोविड-19 महामारी की वजह से उत्पन्न हुई चुनौतियों पर विचारों का आदान-प्रदान किया और साथ ही साथ कई बहुपक्षीय मंचों में सहयोग पर भी बात की.

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Sat, 06 June 2020; 06:09:00 AM

कोरोना वायरस वैक्सीन के निर्माण को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर  बड़ी बैठक हुई। ट्रंप ने दावा किया कि अमेरिका में इस वैक्सीन के 2 मिलियन से भी ज्यादा डोज तैयार हैं। जैसे ही सुरक्षा जांच में ये पास हो जाते हैं इन्हें ट्रांसपोटेशन शुरू कर दिया जाएगा। ट्रंप ने कहा कि हमने कल कोरोना वायरस वैक्सीन पर एक बैठक की थी, हम अविश्वसनीय रूप से अच्छा कर रहे हैं। हमें कुछ बहुत ही सकारात्मक आश्चर्य देखने को मिल सकते हैं। वैक्सीन को लेकर बहुत प्रगति हो रही है। उन्होंने दावा किया कि अगर ये वैक्सीन सुरक्षा जांच को पूरा कर लेते हैं तो हमारे पास दो मिलियन से ज्यादा डोज तैयार हैं। वास्तव में, हम इसके परिवहन और लॉजिस्टिक के लिए तैयार हैं।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Thu, 04 June 2020; 06:05:00 AM

कोरोना महामारी के मसले पर चीन और अमेरिका के बीच जारी तनाव का असर अब दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार और ट्रैवल पर भी नजर आने लगा है। ट्रंप प्रशासन ने एक बड़ा कदम उठाते हुए चाइनीज एयरलाइनों को अमेरिका आने पर रोक लगा दी है। अमेरिका के परिवहन विभाग ने कहा कि वह 16 जून से अमेर‍िका आने जाने वाली चीन की चार एयरलाइनों को निलंबित कर देगा। इस फैसले से 16 जून के बाद चीन का कोई यात्री विमान न तो अमेरिका आएगा और न ही वहां से उड़ान भरेगा। माना जा रहा है कि अमेरिका के इस फैसले से चीन के साथ जारी तनाव में और बढ़ोतरी हो सकती है। अमेरिका ने अपने इस फैसले के लिए भी चीन को जिम्मेदार ठहराया है।

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Thu, 04 June 2020; 06:05:00 AM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज ऑस्ट्रेलिया के अपने समकक्ष स्कॉट मॉरिसन के साथ द्विपक्षीय वर्चुअल समिट करेंगे. इसमें दोनों देश अपने द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा और कोविड-19 महामारी से निपटने के मुद्दे पर चर्चा करेंगे. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. बयान के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की इस वर्ष भारत यात्रा की तारीख को अंतिम रूप दिया जा चुका था, लेकिन यह यात्रा नहीं हो सकी. ऐसे में भारत-ऑस्ट्रेलिया द्विपक्षीय वर्चुअल समिट आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की गई. यह पहला अवसर है जब प्रधानमंत्री मोदी वर्चुअल तरीके से द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन आयोजित कर रहे हैं जो ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत के संबंधों की मजबूती और इनमें उत्तरोत्तर विकास को दर्शाता है.

प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: Wed, 03 June 2020; 04:15:00 AM

चीन से जारी तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से फोन पर बात की. इस दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी को जी-7 सम्मेलन के लिए न्योता दिया. राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत को जी-7 में शामिल करने की भी इच्छा जताई. दोनों नेताओं के बीच कोरोना महामारी, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में सुधार और जी-7 को लेकर बात हुई. पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रंप के बीच भारत और चीन के बीच जारी विवाद को लेकर भी चर्चा हुई. पीएम मोदी ने भी कहा कि कोरोना के बाद के समय में इस तरह के मजबूत संगठन (जी-7) की जरूरत है. पीएम ने कहा कि इस सम्मेलन की सफलता के लिए अमेरिका और अन्य देशों के साथ मिलकर काम करना प्रसन्नता का विषय है. प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका में जारी हिंसा को लेकर चिंता व्यक्त की और स्थिति के जल्द ठीक होने की कामना की.

ज्योतिष

[ज्योतिष][carousel1 autoplay]

अपना सुलतानपुर

[अपना सुलतानपुर][carousel1 autoplay]

दि अन्नदाता

[दि अन्नदाता][carousel1 autoplay]

टेक्नोलॉजी

[टेक्नोलॉजी][carousel1 autoplay]

देश

[देश][carousel1 autoplay]

प्रदेश

[प्रदेश][carousel1 autoplay]

कारोबार

[कारोबार][carousel1 autoplay]

खेल समाचार

[खेल समाचार][carousel1 autoplay]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget