प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया की वेबसाइट पर पधारने के लिए आपका बहुत- बहुत आभार...लगभग 10 लाख Clicks के साथ हमारी बढ़ती लोकप्रियता में आप सभी पाठकों का अत्यधिक सहयोग है जिसके के लिए आपको साधुवाद... सुलतानपुर जिले में हमारे न्यूज़ बुलेटिन '9 बज गए भइया' को No-1 बनाने के लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद...

लॉक डाउन को कैसे बनाये बेहतर:आइये जानते हैं महत्वपूर्ण टिप्स डॉ नितिश शर्मा (Assistant Professor ) से।


                    कोरोना से बचने के उपाय
जैसा की आप सब जानते हैं की दुनिया भर में कोरोना के कारण होने वाली बीमारी कोविड -19 का कहर जारी है और अब यह बिमारी एक महामारी का रूप ले चुकी है, चूँकि इस बिमारी का इलाज या टीका अभी तक इजात नहीं हो पाया है ऐसे में हम सिर्फ एहतियात बरत कर ही इस हम इससे बच सकते हैं और अपने देश को इससे जिता सकते हैं लिहाजा इन दिनों आप कुछ बातों का अतिरिक्त ध्यान रखें जैसे की हर एक घंटे के बाद अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोएं विषेशतः तब जब आप कहीं बाहर से आये हो अथवा कुछ भी खाने से पहले, अपने आँख नाक मुँह को हाथ लगाने से बचे, आवश्यक कार्य हेतु ही बाहर निकले और निकलने पर मुँह अथवा नाक को मास्क अथवा किसी भी कपडे से अच्छी तरह ढके और किसी भी भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें अथवा आवश्यक सामग्री लेने हेतु सामाजिक दुरी बनाये रखें I जिन लोगों के पास एंड्राइड फ़ोन है वो कृपया आरोग्य सेतु ऐप इनस्टॉल करें जिससे वे अपने संक्रमण का स्वयं मूल्यांकन अथवा अपने निकट में उपस्थित सकारात्मक कोविड-१९ के होने पर सूचित हो सके ।


  कैसे बनाये लॉकडाउन को मजेदार और बढ़ाये अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता-


जैसा की अब तक के शोध में पाया गया है की यह बिमारी ज्यादातर बुजुर्ग अथवा पहले से किसी गंभीर बिमारी से ग्रसित लोगों अथवा उन लोगों में ज्यादा आसानी से फ़ैल रही है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है ऐसे में मैं आपको यह जानकर ख़ुशी होगी की भारतीय कृषि अनुसन्धान के वैज्ञानिकों ने कुछ ऐसी सरल तकनीक साझा की है जिससे आप घर बैठे पौष्टिक से भरपूर भोजन ग्रहण कर सकते हैं । जिसमे उन्होंने बताया है की आप इस लॉकडाउन के समय में अपने ही घरों में रहकर एक से दो सप्ताह के सीमित समय में ही पोषक तत्वों से भरपूर विभिन्न फसलों को मइक्रोग्रिन्स की तरह ऊगा सकते हैं । इन्हे उगाना बेहद ही सरल एवं मजेदार है । आप इन्हे थोड़े थोड़े समय के अंतराल पर कई बार ऊगा सकते हैं बशर्ते इन्हे सूरज की रौशनी मिलती रहे । इसके लिए आप अपने घरों में उपलब्ध मेथी, मटर, चना, मूंग अथवा मसूर की दाल को मइक्रोग्रिन्स की तरह ऊगा कर अपने भोजन को और भी पौष्टिक अथवा स्वादिष्ट बना सकते हैं । इन्हे उगाने के लिए किसी ट्रे अथवा डिब्बे में ३ से ४ इंच की मोटी मिटटी की परत बना ले तथा मिटटी की सतह पर बीज को फैला कर उस पर मिटटी की एक पतली परत डाल कर नमी के लिए उस पर पानी का छिड़काव कर उसको किसी पॉलिथीन से ढक कर रख दे । दो से तीन के बाद जब बीज अंकुरित हो जाए तब इन्हे धुप वाली जगह में रख कर इन पर दिन में दो से तीन बार पानी का छिड़काव कर नमी बनाये रहे । आपकी फसल एक से दो सप्ताह में काटने लायक हो जायेगी जिसके उपरान्त आप उसे कैंची से काट कर विभिन्न तरीकों से खाने के उपयोग में ला सकते हैं ।

         मइक्रोग्रिन्स के पोषक तत्वों के महत्व-

मइक्रोग्रिन्स विटामिन्स, पोषक तत्वों तथा तमाम बायोएक्टिव कंपाउंड्स जैसे की पॉलीफेनोल्स, कैरोटेनॉयड्स तथा एंटीऑक्सिडेंट्स के खजाने के रूप में माना जाता है जिससे यह हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाले फ्री रेडिकल्स को नष्ट करने में मदद करता है जिससे हम तमाम तरह के ह्रदय रोग एवं श्वाँस रोगों के होने से बचा जा सकता है अतः इस लॉकडाउन के दौरान इसको उगा कर भोजन में लाने से न सिर्फ आपकी घर में व्यस्तता बढ़ेगी अपितु आप अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने में कारगर साबित होंगे ।
                किसान भाइयों के नाम सन्देश-

हालाँकि इस संकट के समय में स्वास्थय कर्मी तथा सुरक्षा कर्मियों का योगदान अमूल्य रहा है किन्तु हमारे किसान भाइयों के योगदान को भी हम नकार नहीं सकते जिनकी बदौलत हम अपने घरों में रहते हुए भी अपनी भूख को मिटा पा रहे हैं। उनके इस योगदान के लिए पूरा देश स्वास्थय कर्मियों तथा सुरक्षा कर्मियों के साथ साथ उनका भी ऋणी रहेगा। इसलिए मेरा किसान भाइयों से अनुरोध है की जिस तरह से स्वास्थय कर्मी तथा सुरक्षा कर्मी कोरोना को हराने में लगे हैं तथा उसकी हार के बाद हमारे jकिसान भाइयों के मजबूत कन्धों पर इस देश की अगली लड़ाई जिसमे हमें खाद्यानो की आपूर्ति नहीं होने देनी है तथा भारत की अर्थव्यवस्था को पुनः एक नयी गति प्रदान कर उसके लिए सशक्त प्रयास कर के आगे बढ़ने के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है अतः उसके लिए आप स्वयं को सुरक्षित हुए एवं सरकार के नियमो का पालन करते हुए फसलों की कतई एवं बुवाई का कार्य सुनिश्चित करें। इस लड़ाई में सभी का योगदान अमूल्य है हम सभी का इस लड़ाई में साथ रह कर संघर्ष करने के लिए धन्यवाद देते हैं। हमें आगे भी ऐसे ही संयम और समझदारी बनाये रखना होगा।
घरों में रहे, एहतियात बरतें, सरकारी नियमों का पालन करें, देश की इस लड़ाई में उसका साथ दें।

  मैं सुरक्षित हम सुरक्षित । 
जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान।

                जय हिन्द जय भारत ।।


लेखक:डॉ नितिश शर्मा  (Assistant Professor ) कृषि संकाय, श्री रामस्वरूप मेमोरियल यूनिवर्सिटी, देवा रोड, लखनऊ ।
             

Post a Comment

أحدث أقدم