2022

 


 यूं तो वीर सावरकर को 5 फरवरी, 1948 को ही गिरफ्तार किया जा चुका था, लेकिन दिल्ली नहीं लाया गया था। मुंबई की ही आर्थर रोड जेल में रखा गया था। 13 मई को नोटिस से एलान हुआ कि दिल्ली के लाल किले में महात्मा गांधी जी की हत्या का मुकदमा चलाया जाएगा, जज होंगे कानपुर के डिस्ट्रिक्ट जज आत्मा चरण और पहली तारीख होगी 27 मई। अगले दिन सावरकर का जन्मदिन था।


लाल किले में इससे पहले दो बड़े मशहूर मुकदमे लड़े जा चुके थे, पहले मुकदमे में 1857 की क्रांति के बाद बहादुरशाह जफर को रंगून निर्वासित करने वाला फैसला यहीं हुआ था, दूसरा था आजाद हिंद फौज के अधिकारियों पर 1945 में हुआ मुकदमा।


सो आजादी के बाद ये पहला केस था। ये कोर्ट रूम 23 फुट चौड़ा और 100 फुट लंबा था। लाल किले के अंदर ब्रिटिश मिलिट्री के कैंप की दो मंजिला इमारत के टाप फ्लोर पर बने हाल को अदालत में बदल दिया गया था। ग्राउंड फ्लोर के हाल में केस के सारे कागजात को सुरक्षित रखा गया था और सुरक्षा में दिल्ली के बजाय बांबे पुलिस थी।


इस एलान से दो दिन पहले अचानक सावरकर को आर्थर रोड जेल से मुंबई के सीआइडी आफिस ले जाकर बाकी आरोपियों के साथ फोटो करवाया गया। सावरकर ने भांप लिया कि साजिश है, इस फोटो को सुबूत के तौर पर किसी पुरानी तारीख का बताकर कोर्ट में पेश कर सकते हैं, तो ना केवल उन्होंने मुंबई के चीफ मजिस्ट्रेट को लिखा बल्कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी को भी, मुखर्जी ने सरदार पटेल से शिकायत की। उसके बाद सावकरकर को 25 मई को फ्लाइट से दिल्ली लाया गया।


लाल किले में ही उन्हें 12 फुट चौड़ी और इतनी ही लंबी बैरक में रखा गया। सुनवाई के पहले दिन अदालत में 200 कुर्सियां लगाई गई थीं, प्रेस और गणमान्य अतिथियों के बैठने की भी व्यवस्था की गई थी। यहां तक कि कानून मंत्री डा. भीमराव आंबेडकर भी पत्नी के साथ 28 जुलाई को कार्यवाही देखने आए थे।


पहले दिन सावरकर तीसरी लाइन में लकड़ी की बेंच पर बैठे थे। उनके वकील ने जज को उनके खराब स्वास्थ्य का हवाला दिया तो उनको पहली लाइन में एक बैक कुशन वाली कुर्सी उपलब्ध करवाई गई। सावरकर शर्ट, धोती, खुले कालर वाला कोट, काली टोपी और अपने खास किस्म का चश्मा पहनकर आए थे, जिसमें कान वाली कमानी नहीं होती।


सावरकर के वकील थे एलबी भोपटकर, दो सहयोगी भी थे, बाद में पटना के बैरिस्टर आफ ला पीआर दास को भी जोड़ा गया, जो खासतौर पर सरकारी गवाह बने बडग़े के काउंटर के लिए थे। यूं अलग अलग आरोपियों के अलग अलग वकील थे, जिनमें से परचुरे के वकील पीएल ईनामदार को तो एक दिन सावरकर ने अपनी बैरक मे भी बुलाकर तीन घंटे तक मुलाकात की, तारीफ की। सावरकर की बैरक के बारे में उन्होंने ही लिखा था, ईनामदार ने ही लिखा कि, 'सावरकर और गोडसे पास में बैठते थे, लेकिन एक दूसरे से बात नहीं करते थे। बाकी लोग आपस में मजाक करते रहते थे।'


सुबूतों की रिकार्डिंग 24 जून से शुरू हुई और छह नवंबर तक चलती रही। 149 लोगों की गवाहियां हुईं और सुबूतों को लेकर 720 पेज भर गए थे। 10 नवंबर को नाथूराम गोडसे का बयान दर्ज हुआ, लिखित बयान को नाथूराम ने पांच घंटे में पढ़ा, जबकि बीस तारीख को सावरकर ने अपना लिखित बयान पढ़ा, पूरे 57 पेज का था, जिसमें 23 बार दिल्ली का जिक्र था।


इसमें उस आरोप का भी जिक्र था कि पांच-छह अगस्त को गोडसे व आप्टे उन्हीं के साथ हिंदू कन्वेंशन में भाग लेने दिल्ली आए थे। सावरकर ने खुद पर लगे आरोपों का एक एक करके जवाब दिया और बताया कि कैसे कोई उनके घर 'सावरकर सदन' में आकर भी उनसे मिले जरूरी नहीं। क्योंकि उनके सचिव और एक पत्रकार भी नीचे के फ्लोर पर रहते हैं और वो खुद खराब स्वास्थ्य के चलते बेहद कम लोगों से मिलते हैं।


सावरकर ने बताया कि जिस अखबार 'अग्रणी' के लिए उन्होंने फंड दिया, उसके संपादक गोडसे व आप्टे के आग्रह पर कभी भी उसमें लिखा तक नहीं। पूरे ढाई घंटे तक वह धारा प्रवाह लाल किले में बनी उस इमारत में बोलते रहे। रोज हजारों की जनता उनके दर्शन के लिए लाल किले पहुंचती थी। गांधी हत्या का ये ट्रायल नौ महीने तक चला, फैसला अगले साल 10 फरवरी 1949 को सुनाया गया।


सावरकर के बरी होने के बाद हिंदू महासभा की योजना थी कि सावरकर को लेकर पूरी दिल्ली में बड़ी शोभायात्रा निकाली जाए, उनको चाहने वालों की एक बड़ी भीड़ लाल किले के बाहर इकट्ठा हो चुकी थी, लेकिन पंजाब पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट के तहत दिल्ली के डिस्ट्रिक मजिस्ट्रेट ने आदेश दिया कि सावरकर फौरन दिल्ली छोड़ दें और सावरकर के दिल्ली में प्रवेश पर तीन महीने के लिए बैन लगा दिया। सावरकर को चुपचाप सुरक्षा में मुंबई ले जाया गया, दिल्ली में रुकने नहीं दिया गया।


लेकिन मुकदमे की एक और दिलचस्प घटना मनोहर मालगांवकर की किताब 'द मैन हू किल्ड गांधी' में मिलती है। एक दिन सावरकर के वकील भोपटकर हिंदू महासभा के दिल्ली कार्यालय में केस के कागज पढ़ रहे थे कि अचानक एक फोन पर उन्हें बुलाया गया।


दूसरी तरफ बाबा साहेब आंबेडकर थे, उनसे कहा कि आज शाम मुझे मथुरा रोड के छठे मील के पत्थर पर मिलिए. भोपटकर हैरान थे, वहां पहुंचे थे बाबा साहेब अपनी कार में इंतजार कर रहे थे, अकेले, खुद ही ड्राइविंग सीट पर थे, उन्हें बैठाकर ले गए और आगे जाकर कुछ मिनट बाद कार रोकी, फिर उनसे कहा कि, 'तुम्हारे क्लाइंट के खिलाफ कोई रीयल चार्ज नहीं है, बेकार सुबूत बनाए गए हैं। केबिनेट में भी लोग इसके खिलाफ हैं, खुद सरदार पटेल भी। तुम ये केस जीतोगे'।))

 


किसानों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए आज मैं कृषि विशेषज्ञ आकांक्षा सिंह प्रकाश न्यूज आफ इंडिया के माध्यम से जून माह में बोई जाने वाली फसलों के बारे में जानकारी दे रहे हैं। इसी के साथ उनकी अधिक उत्पादन देने वाली उन्नत किस्मों से भी आपको अवगत करा रहे हैं ताकि आप अपने क्षेत्र के अनुकूल रहने वाली उन्नत किस्मों का चयन करके उत्पादन को बढ़ा सके। आशा करते हैं हमारे द्वारा दी जा रही जानकारी किसान भाइयों के लिए फायदेमंद साबित होगी। तो आइए जानते हैं जून माह में बोई जाने वाली प्रमुख फसलों के बारे में।किसानों को बेहतर उत्पादन प्राप्त करने के लिए प्रत्येक माह के अनुसार फसलों की बुवाई और कृषि कार्य करने चाहिए। साथ ही फसल की बुवाई के लिए उन्नत किस्मों का चुनाव करना चाहिए आशा करते हैं हमारे द्वारा दी जा रही जानकारी किसान भाइयों के लिए फायदेमंद साबित होगी

धान की नर्सरी :

  • 01.यदि किसान भाई मई के अंतिम सप्ताह में धान की नर्सरी नहीं डाल पाते हैं तो वे जून के पहले पखवाड़े तक इस काम को पूरा कर सकते हैं.धान की मध्यम और देर से पकने वाली किस्में अच्छी मानी जाती हैं। इसमें धान की स्वर्ण, पंत-10, सरजू-52, नरेंद्र-359, जबकि टा.-3, पूसा बासमती-1, हरियाणा बासमती सुगंधित और पंत संकर धान-1 और नरेंद्र संकर धान-2 प्रमुख उन्नत संकर हैं। किस्में।
  • 02.धान की महीन किस्मों की प्रति हेक्टेयर बीज दर 30 किग्रा, मध्यम के लिए 35 किग्रा, मोटे धान हेतु 40 किग्रा तथा ऊसर भूमि के लिए 60 किग्रा पर्याप्त होता है, जबकि संकर किस्मों के लिए प्रति हेक्टेयर 20 किग्रा बीज की आवश्यकता होती है।
  • 03यदि नर्सरी में खैरा रोग दिखाई दे तो 10 वर्ग मीटर क्षेत्र में 20 ग्राम यूरिया, 5 ग्राम जिकं सल्फटे प्रति लीटर पानी में घोलकर छिडक़ाव करना चाहिए।

मक्का की बुवाई 25 जून तक पूरी कर लें :

  • 01.यदि सिंचाई की सुविधा हो तो इसकी बुवाई का कार्य 15 जून तक भी पूरा किया जा सकता है। यदि आप मक्का की बुवाई करना चाहते हैं तो इसकी बुवाई 25 जून तक पूरी कर लेनी चाहिए।
  • 02.मक्का की उन्नत किस्मों में शक्तिमान-1, एच.क्यू.पी.एम.-1, संकुल मक्का की तरुण, नवीन, कंचन, श्वेता तथा जौनपुरी सफेद व मेरठ पीली देशी प्रजातियां अच्छी मानी जाती हैं।

प्रथम सप्ताह में कर सकते हैं अरहर की बुवाई : जून के

अरहर की बुवाई जून माह के प्रथम सप्ताह में की जा सकती है। वहीं सिंचाई की सुविधा का अभाव होने पर इसकी बुवाई वर्षा प्रारंभ होने पर ही करनी चाहिए। .

  • 01.अरहर, प्रभात और यूपीएस-120 की उन्नत किस्मों में जल्दी पकने वाली किस्में हैं और बहार, नरेंद्र अरहर-1 और मालवीय अरहर-15 देर से पकने वाली किस्में हैं।
  • 02:अरहर की बुवाई के लिए प्रति हेक्टेयर क्षेत्र के लिए 12-15 किग्रा बीज पर्याप्त होता है। अरहर के बीजों को राइजोबियम कल्चर से उपचारित करने के बाद ही बोना चाहिए।

जून माह में करें इन सब्जियों की खेती :

भिंडी की बुवाई का भी ये उपयुक्त समय है। इसके अलावा लौकी, खीरा, चिकनी तोरी, आरा तोरी, करेला व टिंडा की बुवाई भी इस माह की जा सकती है। भिंडी की उन्नत किस्मों में परभनी क्रांति, आजाद भिंडी, अर्का अनामिका, वर्षा, उपहार, वी.आरओ.- 5, वी.आर.ओ.-6 व आई.आई.वी.आर.-10 भिंडी की अच्छी किस्में मानी जाती है। जून माह में आप बैंगन, मिर्च, अगेती फूलगोभी की पौध लगा सकते हैं।


ये कृषि कार्य : जून माह में करें

  • 01.पिछले माह बोई गई बैंगन, टमाटर व मिर्च की फसलों में सिंचाई व आवश्यकतानुसार निराई-गुड़ाई कार्य करें।
  • 02.गर्मी की जुताई व मेड़बंदी का काम बारिश से पहले पूरा कर लेना चाहिए, जिससे खेत बारिश का पानी सोख सके और खेत की मिट्टी बारिश में नहीं बह पाए।
  • 03.सूरजमुखी/उड़द/मूंग जायद में बोई गई सूरजमुखी व उड़द की कटाई मड़ाई का कार्य 20 जून तक आवश्यक रूप से पूरा कर लेना चाहिए।
  • 04.इसी के साथ ही मूंग की फलियों की तुड़ाई का कार्य भी समय समाप्त कर लें।

बागवानी कार्य : जून माह में किए जाने वाले

आप नया बाग लगा रहे हैं तो इसके रोपण के लिए प्रति गड्ढा 30-40 किग्रा सड़ी गोबर की खाद, एक किग्रा नीम की खली तथा गड्ढे से निकली मिट्टी को मिलाकर भरें। इस बात का ध्यान रखें कि गड्ढे को जमीन से 15-20 सेमी. ऊंचाई तक भरा जाना चाहिए।

  • 01.रजनीगंधा, देशी गुलाब एवं गेंदा के साथ उगे अनावश्यक पौधे जिन्हें खरपतवार कहते हैं उन्हें हटाने का कार्य करें ताकि सुगंधित पौधों का ठीक से विकास हो सके। इसके अलावा इन पौधों में आवश्यकतानुसार सिंचाई का कार्य भी करते रहें।
  • 02.मेंथा की दूसरी कटाई जून माह के अंत तक पूरी कर लेनी चाहिए। बता दें कि मेंथा को पुदीना भी कहा जाता है। इससे पिपरमेंट और तेल तैयार किया जाता है। इसका उपयोग दवाइयां, सौंदर्य उत्पाद, टूथपेस्ट, पान मसाला संग कंफेक्शनरी उत्पादों में होता है।

 

आज दिनांक 27 मई 2022 जिला अध्यक्ष अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद रेवती रमण तिवारी की अगुवाई में धनपतगंज ब्लॉक में नई कार्यकारिणी का गठन किया गया। नई कार्यकारिणी में जितेंद्र कुमार सिंह को ब्लॉक अध्यक्ष अजय कुमार शर्मा को महासचिव कुलदीप पांडे को कोषाध्यक्ष राजेंद्र सिंह को ब्लॉक उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया मुख्य रूप से उपस्थित सैनिकों में अध्यक्ष रेवती रमण तिवारी कृष्णदेव पांडे धर्मदेव सिंह जितेंद्र कुमार सिंह अजय कुमार शर्मा कुलदीप पांडे राजेंद्र सिंह अरुण कुमार पांडे रामप्रगत शर्मा वीर प्रताप सिंह अंजनी कुमार त्रिपाठी महेंद्र कुमार सिंह इत्यादि पूर्व सैनिक उपस्थित रहे आए हुए पूर्व सैनिक का रजिस्ट्रेशन जिला महासचिव धर्म देव सिंह द्वारा किया गया ।जिला अध्यक्ष द्वारा पूर्व सैनिकों आने वाली समस्या के निदान के बारे में चर्चा किया गया और हर सैनिक के सुख दुख में भागीदारी करने के लिए समस्त पूर्व सैनिक मिलकर एकजुट होकर कार्य करने का वादा किया अंत में आए हुए सैनिकों का आभार प्रकट करते हुए राष्ट्रगान के गायन के उपरान्त सभा का समापन किया गया । *जय हिंद वंदे मातरम*


 Department of Horticulture, Sam Higginbottom University of Agriculture,Technology and Sciences in collaboration with Department of Horticulture and Food Processing, Govt of Uttar Pradesh invites applications for 10 days training programme on Upgradation of knowledge, skill in value-addition of Horticultural crops.


Programme Objective


The training is aimed to impart knowledge to the students, research scholars and farmers on important aspects of Upgradation of knowledge, skill in value-addition and export management of Horticultural crops.

         Course outline

• Maturity indices, Maturity and ripening process, harvesting and post-harvest handling of horti crops.


• Pre and post-harvest treatment, pre-cooling, method of different storage, irradiation and vapour heat treatment.


• Various methods of packaging- packaging materials and transport, Packaging technology.


• Processing Technology of Fruits and Vegetables- Dehydrated and osmo dehydrated products , 


beverages( fermented and non-fermented), frozen products, minimally processed products.


• Good manufacturing practices, hazard analysis and critical control points and sanitary measures.


• Microbial quality assurance of processed products.


• Value addition of fruits processing industry waste.


• Preservatives, colours permitted and prohibited in India.


• Cold chain management for fresh fruits and vegetables


• Export Technology and Packaging of fresh horticultural produce 

• E-Marketing for Horticultural produce 

• Project report writing and economic feasibility estimations for setting up of a processing industry.

           Eligibility

  • Final Year student of B. Sc. Ag, Hort. and Home Science: M.Sc. and Ph.D. students of ICAR recognised State Agricultural Universities (SAUs) and UGC recognised Universities and farmers and Exporters are eligible to apply. The number of participants will be limited to 30.

Scanned copies of application forms may be sent to:
e-mail: atul.yadav@shiats.edu.in
Application form can be downloaded from:
www.shuats.edu.in


                Course Director 

                 Dr. Atul Yadav

Assistant Professor (Fruit Science)

Department of Horticulture, NAI, SHUATS. Mob No.: 9795973121

            Dr. Vijay Bahadur 

Head, Department of Horticulture

Naini Agricultural Institute

Department of Horticulture, NAI, SHUATS.

Sam Higginbottom University of Agriculture, Technology and Sciences, 

Prayagraj-211007


Registration Fee

Registration fee is to be paid by the candidates Rs. 1500 /-

Travel

No Travelling allowance will be provided by the organizers

Food and Accommodation

Food and accommodation for the participants will be arranged by Self.

Scanned copies of application forms may be sent to:

e-mail: atul.yadav@shiats.edu.in

Application form can be downloaded from:

www.shuats.edu.in


        Format of application form





ब्रेकिंग न्यूज़ :

मार पीट 308 , 325 और अन्य धाराओं के साथ कोर्ट में सरेंडर हुआ और जेल भेजे गए आरोपी अभियुक्त को मिली जमानत फौजदारी अधिवक्ता 

जयसिंहपुर:प्रकरण गोसाईगंज थाना क्षेत्र के मिश्रौली गावँ से जुड़ा हुआ है जहाँ पर पूर्व प्रधान राजमणि मिश्रा कल्लू और सुहा देवी BLO पत्नी अरुणाकर मिश्रा बीडीसी के स्कूल की बाउंड्री वाल को लेकर हुआ था विवाद अतुल मिश्र के  प्रार्थना पत्र थाना गोसाईगंज में मुकदमा दर्ज स्वीकार किया जाता है जिसमे पुलिस ने वैधानिक कार्यवाही कर एफआईआर दर्ज उक्त प्रकरण में आरोपी अभियुक्त के अधीवक्ता सत्येंद्र लक्ष्मी शुक्ला , शुभम द्विवेदी वैदहा ने आज न्यायालय में जमानत प्रार्थना पत्र पर बहस की जिससे सन्तुष्ट होकर न्यायालय आरोपी अभियुक्त को जमानत प्रदान कर दी*

      



लेखक: शुभम तिवारी

1967 में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में तैराकी प्रतियोगिता हो रही थी। पहले की तरह अंग्रेजी में अनाउसमेंट शुरू हुआ तो एक लड़का पानी में कूद गया। जब तक उसे पकड़ने के लिए लोग पहुंचते उसने पानी से बाहर निकलकर अंग्रेजी के खिलाफ भाषण देना शुरू कर दिया। तैराकी प्रतियोगिता रुक गई। दोबारा जब शुरू हुई तो हिन्दी में अनाउसमेंट हो रहा था। समाजवादी छात्र खुश थे। कूदने वाला छात्र फूलचंद्र था। उसने जनेश्वर मिश्र के कहने पर ऐसा किया था।

सबसे पहले बात आंदोलन के शुरुआत की


अंग्रेजी की वजह से छात्र हो रहे थे फेल

1962 में हिन्दी भाषी राज्यों में अंग्रेजी को लेकर नाराजगी पैदा हुई। प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के राम मनोहर लोहिया और जनेश्वर मिश्र ने इस नाराजगी को हवा दी तो यह विद्रोह में बदल गई। लोग कॉलेज कैंपसों से निकलकर सड़कों पर प्रदर्शन करने तक उतर गए थे। इसकी दो प्रमुख वजह थी।

  • ग्रेजुएशन में एक पेपर अंग्रेजी का अनिवार्य होता था। इसमें पास होना जरूरी होता था। हिन्दी भाषा का छात्र अंग्रेजी में फेल हो जाता था।
  • हिन्दी से पीएचडी करने वाले छात्रों को अपनी रिपोर्ट अंग्रेजी में टाइप करके जमा करनी होती थी, जो छात्रों के लिए चुनौती थी।

राष्ट्रपति को अंग्रेजी में बोलने से रोकते हुए कहा- आप हिन्दी में बोलें या तमिल में

1962 में राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को संयुक्त सदन में भाषण देना था। भाषण अंग्रेजी में होना तय था। उनका भाषण जैसे ही शुरू हुआ सोशलिस्ट पार्टी के 6 सांसदों ने राम मनोहर लोहिया के नेतृत्व में नारेबाजी शुरू कर दी। लोहिया का कहना था, "या तो आप हिन्दी में भाषण दीजिए या फिर अपनी मातृभाषा तमिल में। अंग्रेजी में नहीं चलेगा।"

अंग्रेजी के समर्थन में केंद्रीय मंत्री सी. सुब्रमण्यम ने इस्तीफा दे दिया

राष्ट्रपति डॉ. राधाकृष्णन पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और अंग्रेजी में भाषण जारी रखा। सोशलिस्ट सांसदों ने सदन का बहिष्कार कर दिया। सदन के बाहर लोहिया ने कहा, "अंग्रेजी हटाओ का मतलब हिन्दी लाना नहीं, बल्कि अंग्रेजी का वर्चस्व हटाकर भारतीय भाषाओं को लाना है।" इस बात से केंद्रीय मंत्री सी. सुब्रमण्यम खफा थे। उन्होंने सरकार से इस्तीफा दे दिया।


आखिर अंग्रेजी के खिलाफ आंदोलन की वजह क्या थी, आइए इसे जानते हैं...


‘अंग्रेजी जाए, हिन्दी आए’

26 जनवरी 1950 को जब संविधान लागू हुआ था उस वक्त संविधान में प्रावधान था कि हिन्दी भारत सरकार के कामकाज की भाषा होगी। साथ ही अगले 15 साल तक अंग्रेजी भी साथ चलेगी। 1965 में जवाहर लाल नेहरू ने संविधान में संशोधन करके अंग्रेजी का काल 15 साल से बढ़ाकर अनिश्चितकालीन कर द्विभाषी फाॅर्मूला दिया। इसी के विरोध में समाजवादियों ने नारा दिया, 'अंग्रेजी जाए, हिन्दी आए।'

जनेश्वर की कद काठी अच्छी थी इसलिए हर बार गिरफ्तार कर लिए जाते

अंग्रेजी हटाओ अभियान की शुरुआत इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से हुई थी। जनेश्वर मिश्र के अलावा जार्ज फर्नार्डिंस, मधु लिमये, कर्पूरी ठाकुर, रामानंद तिवारी और प्रभुनारायण सिंह शामिल थे। मुलायम सिंह भी शामिल थे लेकिन बतौर शिक्षक। एक बार सबकी गिरफ्तारी हुई तो प्रभुनारायण को भी गिरफ्तार कर लिया गया। जब पुलिस को पता चला कि प्रभु नारायण यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं तब जाकर सभी को छोड़ा।


जनेश्वर मिश्र आंदोलनों में सबसे आगे रहते थे। पुलिस की लाठियां जब भी चलनी शुरू हुई सबसे आगे जनेश्वर मिश्र मिले।

बिहार के गया में 31 दिसंबर 1967 को अंग्रेजी हटाओ आंदोलन को लेकर एक बैठक हुई थी। इस बैठक में जनेश्वर मिश्र के साथ राज नारायण भी थे। पुलिस को आशंका थी कि समाजवादी युवजन सभा के ये छात्र तोड़फोड़ कर सकते हैं। इसलिए वहां से लौटते वक्त वाराणसी के कैंट थाने की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। यहां से छूटने पर जनेश्वर मिश्र इलाहाबाद पहुंचे।

इलाहाबाद में आंदोलन किया तो पुलिस आ गई। बाकी साथी तो भाग गए लेकिन भारी शरीर होने के चलते जनेश्वर पकड़ लिए गए। पुलिस ने पहले लाठियों से पीटा उसके बाद गिरफ्तार कर लिया। जनेश्वर बनारस, पटना, इलाहाबाद, दिल्ली में कम से कम 6 बार गिरफ्तार किए गए थे।

कॉलेज के टाइपराइटर को उठा ले गए छात्र

1967 में अंग्रेजी का प्रभाव कुछ इस तरह था कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में हिन्दी साहित्य से PhD की रिपोर्ट अंग्रेजी में बनाकर जमा करनी होती थी। अंग्रेजी हटाओ आंदोलन चला तो यह खत्म हो गया।

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में भी ऐसा ही कुछ था। सारे टाइपराइटर अंग्रेजी में थे। समाज समाजवादी युवाजन सभा के विद्यार्थी सारे टाइपराइटर उठाकर आर्ट फैकल्टी के ऑडिटोरियम में रख आए। उसे इस शर्त पर वापस किया गया अब कॉलेज में हिन्दी के भी टाइपराइटर लाए जाएंगे।

इलाहाबाद के बाद बनारस यूनिवर्सिटी अंग्रेजी हटाओ आंदोलन की स्थली बनी। यहां प्रदर्शन के दौरान सबसे अधिक गिरफ्तारी हुईं।

आंदोलन को लेकर जनेश्वर का ‘उपद्रवी’ रूप भी नजर आया।

गुजरात गए तो जार्ज पंचम की मूर्ति तोड़ दी

राम मनोहर लोहिया के निधन के बाद जनेश्वर सबसे बड़े समाजवादी नेता थे। लोग छोटे लोहिया कहने लगे थे। 1967 में गुजरात के अहमदाबाद पहुंचे। रात में चार लोगों के साथ घूम रहे थे। नजर एक मूर्ति पर पड़ी। साथ के एक व्यक्ति ने बताया कि यह ब्रिटेन के किंग जार्ज पंचम की मूर्ति है। जनेश्वर बोले, "हमारे देश में इसका क्या काम।" इतना कहकर उसे तोड़ दिया। सुबह लोगों ने देखा तो हंगामा मच गया। गुजरात में समाजवादी नेताओं को लेकर लोगों का नजरिया बदल गया।

लखनऊ के हजरतगंज चौराहे पर पहले रानी विक्टोरिया की मूर्ति लगी थी। अंग्रेजी हटाओ आंदोलन के दौरान जनेश्वर मिश्र ने साथियों के साथ मिलकर उस मूर्ति को तोड़ दिया। आज वहां महात्मा गांधी की मूर्ति लगी है।


सारे अंग्रेजी पोस्टरों पर कालिख पोत दी

बनारस यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी हटाओ आंदोलन के दौरान वहां के समाजवादी छात्रों ने मीटिंग की और तय किया कि जिले के उन सभी पोस्टरों को पोत दिया जाए जो अंग्रेजी में हैं। उत्साही छात्रों ने जिले के सभी पोस्टरों पर कालिख पोत दी। यह खबर अगले दिन इलाहाबाद, गोरखपुर, लखनऊ पहुंची। यहां के भी समाजवादी छात्रों ने रात में सभी पोस्टरों पर कालिख पोत दी।

समाजवादी छात्रों का यह आंदोलन सफल रहा। ग्रेजुएशन में अंग्रेजी के पेपर की बाध्यता खत्म हुई। हिन्दी पीएचडी की रिपोर्ट हिन्दी में जमा करने की अनुमति मिली। उन सभी जगहों पर हिन्दी मौजूद हो गई, जहां पर पहले सिर्फ अंग्रेजी हुआ करती थी।

 


कथासार

‘लोग उदासी' एक असंगत या अब्सर्ड नाटक है, जिसमें समाज में बेमेल विवाह की समस्या को उठाया गया है पर कोई क्रमवार कथा या किस्सा नहीं है। चूंकि नाटक बेमेल विवाह की समस्या को उठाता तो है, बार-बार दोहराता है पर समस्या का कोई समाधान नहीं निकलता, बात जहाँ से शुरू हुई थी फिर वहीं पर पहुँच जाती है। और फिर पुनः किस्सा कहा जाता है। यह नाटक एक खेल की अवधारणा पर आधारित है। नाटक की भाषा काव्यात्मक है। नाटक एक खास लय (रिम्) में चलता है। नाटक का कथ्य यर्थाथवादी है पर शैली या फार्म का ट्रीटमेन्ट यर्थाथवादी नहीं है। चूंकि लोग-उदासी में बेमेल विवाह की परिणति एक खेल के रूप में होती है, जहाँ कोई नतीजा नहीं निकलता। अतः समाज इसे उदासीन भाव से यन्त्रवत् बस बार-बार खेलता रहता है। यह पूरा नाटक एक विवाह के अगल-अगल दृश्यों के कोलाज के रूप में उभर कर आता है।


निर्देशकीय


हर्ष का विषय है कि समन्वय संस्था अपने रजत जयंती वर्ष पर पहली बार एक असंगत (एब्सर्ड) नाटक 'लोग उदासी' का मंचन करने जा रही है। जैसा कि असंगत नाटकों में एक समस्या होती है और उसके भिन्न-भिन्न रूप होते हैं। पर ऐसे नाटक कथा और रंग निर्देशों द्वारा बंधे नहीं होते। इनका स्वरुप एक लम्बी कविता की तरह होता है, जहाँ दृश्यों की शुरुआत या समाप्ति प्रकाश के होने या न होने से निर्धारित होती है। अतः ये नाटक एक निर्देशक के लिये चुनौतीपूर्ण होते हैं। इनमें प्रयोगों की असीम संभावना छिपी रहती है। इस नाटक के पूर्वाभ्यास के दौरान मैंने भी ऐसा ही अनुभव किया। हमने इसे बोझिलता से बचाने की पूरी कोशिश की है। गीत-संगीत का यथा संभव प्रयोग किया है। आपकी उपस्थिति हमारा मनोबल बढ़ायेगी, आपके सुझाव हमारे प्रयास को और बेहतरीन बनायेंगे ।


हम संगीत नाटक अकादमी नयी दिल्ली और श्री सुमन कुमार के आभारी है जिन्होंने संस्था को इस नाटक के मंचन का अवसर प्रदान किया।

सुलतानपुर: जिले के कुड़वार थाने का विवादों से पुराना नाता रहा है। पीड़ित का आरोप बुधवार को 151 के लिए दीवान द्वारा धमका कर लिया गया 25 सो रुपए। पीड़ित ने कहा कि दीवान ने कहा 25 सो रुपए दो नहीं तो मुकदमा लिख कर जेल भेज देंगे। पीड़ित हाथ  पैर जोड़ने लगा दीवान ने गाली देकर कहा पैसा दो नहीं तो जेल जाओ जाओगे। पीड़ित पुलिस अधीक्षक सुल्तानपुर से कर रहा है। न्याय की गुहार। अब देखना यह होगा कि पुराने नाते से जुड़े कुड़वार थाना के दीवान पर कार्रवाई होती है या फिर क्लीन चिट देकर मामला रफा-दफा कर दिया जाता है।

 संगीत नाटक अकादमी, नयी दिल्ल की अनुदान योजना (2021-22 ) के अन्तर्गत।

समन्वय रंगमण्डल प्रयागराज की नवीन प्रस्तुति, लोग उदासी (असंगत नाटक) की प्रतुति 20 मई को ।

                कार्यक्रम विवरण

दिनांक - 20 मई, 2022 

समय - 6:30 सायं अवधि : 1 घंटा 10 मिनट

 नाटककार - बलराज पंडित परिकल्पना एवं निर्देशन - सुषमा शर्मा 

मुख्य अतिथि - माननीय डॉ. के.पी. श्रीवास्तव (सदस्य, वि.प.)

अतिथि - श्री अतुल द्विवेदी (सदस्य भारतेन्दु नाट्य अकादमी, उ.प्र.) विशिष्ट लखनऊ) )

स्थान उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र प्रेक्षागृह, प्रयागराज (निकट सर्किट हाउस)

सुलतानपुर: कैबिनेट मंत्री प्राविधिक शिक्षा, उपभोक्ता संरक्षण एवं बॉट माप विभाग उत्तर प्रदेश आशीष पटेल द्वारा रविवार को जनपद सुलतानपुर का भ्रमण दौरान राजकीय पालीटेक्निक केनौरा, सुलतानपुर आयोजित टैबलेट वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सम्मिलित होकर टैबलेट वितरण एवं तकनीकी प्रदर्शनी कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। मंत्री जी द्वारा इससे पूर्व मां सरस्वती जी के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित किया गया।
         
कैबिनेट मंत्री जी द्वारा टैबलेट वितरण समारोह में उपस्थित विद्यार्थियों को टैबलेट वितरण के साथ मौके पर उपस्थित छात्र/छात्राओं का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि तकनीकी शिक्षा संस्थानों में कैम्पस प्लेसमेन्ट बढ़ाने का प्रदेश सरकार प्रयास कर रही है। कार्यक्रम में उपस्थित मा0 विधायक लम्भुआ सीताराम वर्मा ने कहा कि राजकीय पालीटेक्निक केनौरा में फार्मेसी संकाय बढ़ाने का प्रयास चल रहा है।
        
इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ0 आर.ए. वर्मा, प्रधानाचार्य, राजकीय पॉलीटेक्निक केनौरा, आईटीआई प्रिन्सिपल आदि सहित अन्य सम्बन्धित उपस्थित रहे। 
-------------------------------------------
जिला सूचना कार्यालय सुलतानपुर द्वारा जनहित में प्रसारित।


सुल्तानपुर : थाना करौदींकला क्षेत्र दशगरपारा मोड़ पर अमनाईकपुर निवासी राकेश उम्र 38 वर्ष पुत्र तीरू दो पक्षो में मारपीट में मौत हो जाने से दशगरपारा मोड़ पर बीचोबीच  लाश सड़क पर रखकर लगाया जाम । मौके पर एसडीएम कादीपुर प्र. प्रमुख करौदी कला सर्वेश मिश्रा, क्षेत्राधिकारी कादीपुर डा.राधेश्याम शर्मा व इंचार्ज प्रभारी करौदींकला शैलेंद्र पुलिस टीम के साथ कर रहे वार्ता। प्र. प्रमुख करौदी कला

सर्वेश मिश्र के परिजनों से मांगों की पूर्ति के आश्वासन के बाद परिजनों ने हटाया शव,आवागमन हुआ संचालित। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारियों के घंटों मशक्कत के बाद खुला है जाम।


उत्तर प्रदेश : प्रयागराज में नैनी और एयरपोर्ट समेत कई मुहल्लों का नया नाम तय हो गया है। नैनी को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नगर नाम दिया गया है। एयरपोर्ट दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर जाना जाएगा।

प्रयागराज का नैनी क्षेत्र अब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नगर के नाम से जाना जाएगा। प्रयागराज एयरपोर्ट का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट होगा। सोमवार को नगर निगम में बैठक में सदन ने नैनी, एयरपोर्ट समेत शहर के चौराहा, सड़क और पार्क के नए नामों पर मुहर लगा दी।

बजट पर चर्चा के बाद सदन में नामकरण की सूची रखी गई। नैनी का नाम हेमवती नंदन बहुगुणा नगर रखने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। यह प्रस्ताव इलाहाबाद की सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी ने भेजा था। शासन ने डॉ. रीता का प्रस्ताव नगर निगम में भेजा और सदन में निर्णय लेने का सुझाव दिया।

सदन से पहले नगर निगम की नामकरण कमेटी में रखा गया। कमेटी ने यह कहकर प्रस्ताव खारिज कर दिया कि हेमवती नंदन बहुगुणा के नाम शहर में मार्केट, पार्क, स्कूल और चौराहा पहले से है। कमेटी ने ही नैनी का नाम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी रखने का सुझाव दिया। कमेटी का प्रस्ताव सदन में रखा गया तो सभी ने सर्वसम्मति से इस पर मुहर लगा दी।

इसी प्रकार प्रयागराज एयरपोर्ट का नाम पंडित मदन मोहन मालवीय या पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट रखने पर चर्चा हुई। सदन को बताया गया कि पंडित मदन मोहन मालवीय के नाम पर पहले से सड़क, चौराहा है। इसलिए एयरपोर्ट का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट रखने का सर्वसम्मित से निर्णय लिया गया। नैनी का लेप्रोसी चौराहा अब श्यामा प्रसाद मुखर्जी चौराहा के नाम से जाना जाएगा। सदन ने लूकरगंज मछली बाजार के पास सड़क का नाम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दूधनाथ नागर मार्ग रखा।

नगर निगम सदन ने प्रीतम नगर में कोहली ढाबा चौराहा का नाम जनकवि कैलाश गौतम चौराहा रखा है। शिवकुटी में तिकोना पार्क का नाम शहीद अंबुज सिंह पार्क रखा गया। इसी प्रकार अलोपीबाग फ्लाईओवर का नाम अब शहीद रोशन सिंह सेतु होगा। नगर निगम सदन ने सोमवार को चौराहा, फ्लाईओवर समेत मार्ग व पार्क के नए नामों को हरी झंडी दे दी। बेनीगंज-करेली स्थित मार्ग को पेंशनरों के लोकप्रिय नेता सरदार किशन सिंह मार्ग किया गया है।

कालिंदीपुरम दुर्गा पूजा पार्क नाम से जाना जाएगा। चौराहा, मार्ग और पार्क को नए नामकरण पर पिछले दिनों नगर निगम के नामकरण समिति की बैठक हुई थी। बैठक के बाद अधिकारियों की समिति ने सभी पहलुओं की जांच की। जांच के उपरांत नए नामों पर सदन ने मुहर लगा दी। मुत्रीगंज का नाम 1982 में सालिगराम जायसवाल रखा गया था। सदन ने 2018 में नए नामों के बोर्ड लगाने का निर्देश दिया।

बैठक के बाद महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने बताया कि नामकरण के लिए हाईकोर्ट के निर्देश पर कमेटी बनी है। कमेटी ही नए नामों पर निर्णय लेती है। शहर में पूर्व प्रधानमंत्री के नाम कुछ नहीं था। इसलिए नैनी का नाम अटल बिहारी वाजपेयी नगर रखा गया।



                धोखे में जी रहा गुलाब है....


सुना है सदियों  से

गुलाब नवाबी शौक है... 

शायद यही वजह है 

गुलाब के इतराने की.... 

काँटो से घिरे होने पर भी, 

खानदानी कहाने की.... 

तनिक गौर से देखो 

मित्रों गुलाब के काँटो को 

औंधे मुँह गिरे हुए, झुके हुए से....

 चुभते हैं बड़े ही धोखे से 

फिर भी देखो नवाब को... 

काँटो के बीच 

महफूज होने का गुमान है....

कमीने गुलाब पागल को 

किसी ने प्यार की निशानी बता दिया 

बस इसी ने गुलाब को

 बदगुमानी बना दिया...

 झूठ-मूठ में फैलाए है 

समाज में प्रोपोगंडा... 

खुद को खानदानी

 बताने वाला गुलाब गंदा... 

आशिकी में कली

 गुलाब को कह दिया किसी ने 

पैगाम मोहब्बत का..... 

अब कौन बताए कि 

खुद मोहब्बत भी....प

रिणाम है गंदी सोहबत का....

माना कि गुलाब में है, 

बेशुमार मोहक खुशबू..... 

पर आप ही बताओ 

किसी का पेट भरा है

 क्या कभी खुशबू से.....?

 गर पता नहीं है तो पूछ लो 

हरिया, माधव, जग्गू से...


मुफ़्त में फुलाए है सीना 

अपने इत्र और जल गुलाब से


मालूम नहीं उसे शायद 

गाँव वाले नहाते भी हैं 

गंगा की आब से.... 

गाँव-देश में हमारे मिलते हैं 

गुलाब तकिया और हाथ के पंखे 

पर जनाब.... और

 गाँव-देश में मित्रों 

चम्पा, चमेली,बेला और कचनार के आगे....

नहीं चलती गुलाब की हेकड़ी....

 यहाँ नहीं मिलते किताब के पन्नों के बीच

 कभी सूखे गुलाब .... 

आप इत्तेफाक रखते हैं 

या नहीं रखते.....

पर.... मेरा दावा है..... 

शहरों,महानगरों में धोखे में जी रहा गुलाब है...... 

धोखे में जी रहा गुलाब है......


रचनाकार.....


जितेन्द्र कुमार टुबे अपर पुलिस अधीक्षक/क्षेत्राधिकारी


नगर, जौनपुर



 मिलिए कन्नौज के हैवत पुर कटरा कक्षा 7 के मास्टर अंकुश से जिन्होंने इतने सुंदर नृत्य से मातृत्व की अभिव्यक्ति की है। 




सुलतानपुर।उत्तर प्रदेश उच्चतर सेवा आयोग प्रयागराज में गुरूवार को कृषि अभियांत्रिकी विषय के साक्षात्कार का परिणाम घोषित किया गया।जिसमे 8 अभ्यार्थियों का चयन हुआ है।सुल्तानपुर जिले के नौगवांतीर निवासी वरिष्ठ समाजसेवी वेद प्रकाश सिंह के सुपुत्र प्रशांत सिंह ने असिस्टेंट प्रोफेसर कृषि अभियांत्रिकी के पद पर चयनित होकर जिले व क्षेत्र का नाम रोशन किया है। प्रशांत ने कहा कि उनकी इस सफलता में कड़ी मेहनत तथा माता पिता, भाई-बहन गुरुजनों का सहयोग व योगदान रहा है।प्रशांत ने दसवीं एवं बारहवीं की शिक्षा केंद्रीय विद्यालय सुल्तानपुर से ग्रहण किया। इसके पश्चात उन्होंने कृषि अभियांत्रिकी विषय में इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ से स्नातक की डिग्री प्राप्त किया।प्रशांत ने भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद द्वारा आयोजित जेआरएफ की परीक्षा में पूरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया।प्रशांत ने भारतीय कृषि अनुसन्धान संस्थान, नई दिल्ली  में मृदा एवं जल संरक्षण विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन किया। इसके बाद  भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद द्वारा आयोजित एसआरएफ की परीक्षा में पूरे देश में पहला स्थान प्राप्त किया।इस समय वह भारतीय कृषि अनुसन्धान संस्थान, नई दिल्ली से पीएचडी के शोध छात्र रूप में अध्ययनरत है। शिक्षा के क्षेत्र में मेधावी होने के साथ ही सामाजिक कार्यों में भी उनकी काफी रूचि रही है । इसके पूर्व प्रशांत ने भारतीय कृषि अनुसन्धान संस्थान, नई दिल्ली में छात्र संघ के महासचिव के रूप में दायित्व का निर्वहन किया था। वर्तमान में वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कृषि आयाम-एग्रीविजन के दिल्ली प्रान्त के प्रान्त संयोजक है।प्रशांत के असिस्टेंट प्रोफेसर कृषि अभियांत्रिकी बनने पर एमएलसी शैलेन्द्र प्रताप सिंह, सांसद प्रतिनिधि रणजीत कुमार, जिला उपाध्यक्ष ज्ञान प्रकाश जयसवाल,भाजपा प्रवक्ता विजय सिंह रघुवंशी,अरुण द्विवेदी, रिंकू शुक्ला, गांधी सिंह,उमेश सिंह बाबी, ब्लाक प्रमुख अखिलेश प्रताप सिंह डिंपल, ब्लाक प्रमुख राहुल शुक्ला, विनोद सिंह, विजय अग्रहरी, रामचन्द्र दुबे, सुरेश सिंह विसेन, प्रदीप यादव,अजय पाण्डे,मुन्ना चौबे आदि ने बधाई देते हुए खुशी जाहिर की है। और प्रशांत के उज्जवल भविष्य की कामना की है।

 

  • रिकाउंटिंग का मामला उच्च न्यायालय पहुंचा, 
  • उच्च न्यायालय ने सब को दिया नोटिस
  • न्यायालय का निर्देश तय  समय सीमा तक सब लिखित जवाब सारे साक्ष्य के साथ

सुल्तानपुर(ब्यूरो)। इसौली विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश पांडेय "बजरंगी" ने संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के रिकाउंटिंग की मांग उच्च न्यायालय में उठाई है। ओमप्रकाश पांडेय "बजरंगी" की ओर से दायर याचिका पर उच्च न्यायालय ने प्रतिवादियों को अपना पक्ष रखने के लिए समय सीमा निर्धारित कर दी है। हाईकोर्ट ने आदेश पारित किया है कि 20 मई को 10.15 Am तक लिखित जवाब के सारे साक्ष्य के साथ उपस्थित हों। उच्च न्यायालय का आदेश पारित होने के बाद इसौली विधानसभा की राजनीति का "पारा" इस "तपश" भरी गर्मी में और बढ़ गया है, चर्चाओं का बाजार गर्म है।

गौरतलब हो कि 10 मार्च को संपन्न हुए विधानसभा चुनाव की मतगणना हुई। इसौली विधानसभा की हुई मतगणना राउंड प्रति राउंड रोमांचक रही। बहुतेरे चक्र में भाजपा के ओम प्रकाश पांडेय बजरंगी आगे रहे। इसी दौरान ओमप्रकाश पांडेय बजरंगी रिटर्निंग ऑफिसर को तीन बार लिखित रूप से ईवीएम के 29-30 राउंड की मतगणना के साथ वैलेट पेपर की रिकाउंटिंग की मांग की, लेकिन रिटर्निंग ऑफिसर ने भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश पांडेय के तीनों शिकायती पत्रों को खारिज कर दिया। काफी हो-हल्ला के बीच जिला निर्वाचन अधिकारी ने 10 मार्च की देर रात 269 वोटों से सपा के मोहम्मद ताहिर खान को जीत का प्रमाणपत्र दे दिया। मतगणना से असंतुष्ट भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश पांडेय "बजरंगी" ने न्यायालय की शरण ली। उच्च न्यायालय ने संबंधित प्रतिवादियों को 04 अप्रैल 2022 को नोटिस जारी करने का आदेश पारित किया। उच्च न्यायालय ने हिदायत दी की 7 रनिंग डे में नोटिस को तामिल कराया जाए। साथ ही लीडिंग अखबार में विज्ञापन भी प्रकाशित कराया जाए। जिससे कि सभी पार्टियों को सूचना समय से मिल सके। नोटिस शामिल होने के बाद 13 अप्रैल 2022 को उच्च न्यायालय ने एक आदेश फिर जारी किया है। जारी आदेश में कहा है कि 20 मई को 10.15Am तक सब लिखित जवाब सारे साक्ष्य के साथ। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद इसौली विधानसभा क्षेत्र की राजनीति में "गर्माहट" आ गई है। तरह-तरह की चर्चाएं चल रही है। चर्चा चलना भी लाज़मी के

है।


इनसेट


इसौली विधानसभा क्षेत्र के भाजपा उम्मीदवार ओम प्रकाश पांडेय "बजरंगी" ऐसे ही उच्च न्यायालय की शरण नहीं लिए हैं। जन सूचना अधिकार अधिनियम के तहत 25 मार्च को मांगी गई सूचना पर रिटर्निंग ऑफिसर तहसील बल्दीराय  द्वारा उपलब्ध कराए गए मतगणना से संबंधित मिले साक्ष्य  के आधार पर उच्च न्यायालय में पूरे मतगणना की रिकाउंटिंग की मांग की है।


इनसेट


तहसील बल्दीराय के रिटर्निंग ऑफिसर से मांगी गई सूचना के मिले जवाब के साक्ष्य में वोट पड़ने के बाद रिटर्निंग ऑफिसर फार्म 17 (A) जारी करता है। काउंटिंग के बाद रिटर्निंग ऑफिसर फार्म 20 जारी करता है। दोनों के मिलान में अंतर है।


इनसेट


इसौली विधानसभा क्षेत्र के चार बूथ ऐसे हैं, जहां पर पड़े मतों से ज्यादा वोटों की मतगणना हुई है। जो निम्नवत हैं।

बूथ न.315 पड़ा मत452, काउंट मत 537,

बूथ न.329 पड़ा मत-537, काउंट मत 452,

बूथ न.339,पड़ा मत 534 काउंट मत540,

बूथ न.376,पड़ा मत421-काउंटिंग मत 501,

चुनाव में पड़े मतों और काउंटिंग के मतों में आए अंतर का खुलासा रिटर्निंग ऑफिसर की ओर से जारी फार्म 17a और फार्म 20 से हुआ है। यही नहीं पोस्टल बैलट में कुल 898 मत पड़ा। काउंटिंग 8 27 मतों की हुई। जिसमें 650 वैध मत मिले। 177 अवैध मत पाए गए। यहां पर 71 मत का अंतर आ रहा है,पडा 71 मत कहां गया?इसका जिक्र भी कहीं नहीं किया गया है। इन्हीं साक्ष्यों के आधार पर भाजपा प्रत्याशी   ओमप्रकाश पांडेय "बजरंगी" उच्च न्यायालय की शरण में गए हैं।मतगणना के समय हुई गणितीय त्रुटि को आधार मानकर उच्च न्यायालय पुनः मतगणना का आदेश जारी कर सकता है? गौरतलब हो कि इसौली विधानसभा क्षेत्र में कुल  202007 मत पड़े, जबकि काउंटिंग 202093 मतों की हुई।


  • सांसद मेनका गांधी की अध्यक्षता में हुआ कार्यक्रम।
  • सुलतानपुर विधायक विनोद सिंह मुख्य अतिथि के रूप में हुये शामिल।
  • डीएम, सीडीओ,डीपीआरओ, बीडीओ सहित कूरेभार प्रमुख प्रतिनिधि नवनीत सिंह सोनू भी रहे मौजूद।
  • कूरेभार ब्लॉक के गुप्तारगंज में हुआ कार्यक्रम का आयोजन।

सुल्तानपुर में आज राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर पंचायती राज विभाग द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कूरेभार ब्लाक के गुप्तारगंज में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता सांसद मेनका गांधी ने की। वहीं मुख्य अतिथि के रूप में विनोद सिंह भी कार्यक्रम में शामिल हुये। इस दौरान अतिथियों के सरस्वती प्रतिमा पर माल्यार्पण पर कर कार्यक्रम की शुरुवात की। वहीं प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा पुष्प देकर उनका स्वागत किया गया। अपने संबोधन के दौरान ग्रामीणों को संबोधित करते हुये सांसद मेनका गांधी ने कहा कि पंचायती राज दिवस इसी लिये मनाया जाता है क्योंकि हमारे देश की ज्यादातर आबादी गांव में निवास करती है। लिहाजा गांव को प्राथमिकता देते हुये वहां  विकास के कार्यो को गति प्रदान की जाय। विभिन्न योजनाओं के जरिये लोगों को इसका लाभ दिया जाय। वहीं पूर्व मंत्री एवं सुल्तानपुर विधायक विनोद सिंह ने कहा पंचायतों की विकास ही हमारी प्राथमिकता है। केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा ज्यादातर योजनाएं पंचायतों के लिये ही बनाई गई है। हमारा दायित्व है कि उन योजनाओं को गांव गांव में लागू करें और ग्रामीणों को इसका लाभ देकर उन्हें सम्मानित करें। उन्होंने साफ कहा कि सड़कें, शौचालय, बारात घर, शिक्षा स्वास्थ्य जैसी सुविधाएं अगर गांव में सुचारू रूप से मिल सकें तो गांव से बेहतर कुछ नही है। लिहाजा उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि ग्रामीण स्तर पर आने वाले योजनाओं का सही से क्रियान्वय  होना जरूरी है।

 वही कार्यक्रम में डीएम रवीश गुप्ता, सीडीओ अतुल वत्स, डीपीआरओ आर के भारती, बीडीओ, कूरेभार ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि नवनीत सिंह सोनू, श्याम बहादुर पाण्डेय, विजय त्रिपाठी सहित भाजपा नेता कार्यकर्ता एवं सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे।


                     फाइल फोटो प्रो.अतुल यादव

प्रयागराज:(नैनी) विगत दिनों सैम हिगिनबॉटम कृषि, प्रौद्योगिकी और विज्ञान विश्वविद्यालय में व्यक्तिगत कार्य हेतु जाना हुआ ।कृषि विश्वविद्यालय में कृषि तकनीक को करीब से देखा और छात्रों के माध्यम से भी नई तकनीकों के बारे में जानकारी प्राप्त हुई।इसी क्रम में जब उद्यान विज्ञान विभाग में पहुँचा तो वहां पर सब्जी एवम फल उत्पादन की नई-नई तकनीक देखने को मिली।


छात्रों के साथ वार्ता के दौरान जानकारी मिली कि सैम हिगिनबॉटम कृषि, प्रौद्योगिकी और विज्ञान विश्वविद्यालय में उद्यान विभाग में प्रो अतुल यादव के द्वारा उद्यान विज्ञान में अनेक शोध किये गए हैं। विश्वविद्यालय परिसर में देखने को मिला की प्रोफ़ेसर अतुल यादव के द्वारा बच्चों को विभिन्न प्रकार की फसलों के उत्पादन संरक्षण एवं संवर्धन के अंतर्गत शिक्षित किया जा रहा है ।उनके द्वारा प्रयोगशाला में किये प्रयोग के उपरांत प्राप्त शोधों को खेतों में लागू किया जाता है, जहां पर किसानों द्वारा कम लागत में अधिक लाभ प्राप्त किया जाता है।


खेती या कृषि कुल सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 16%I योगदान देती है और भारत में कुल कार्यबल का लगभग 50% रोजगार प्रदान करती है।भारत की बढ़ती जनसंख्या में पोषण संबंधी कमियों को देखते हुए आज एक बढ़ती मान्यता है कि पोषण संबंधी सुरक्षा प्राप्त करने के लिए खाद्य उत्पादन को बढ़ाते हुए गुडवत्ता युक्त खाद्य पदार्थों के उत्पादन पर जोर दिया जाना चाहिए ।वर्तमान की कृषि चुनौतियों के लिए प्रो अतुल यादव के द्वारा प्रशिक्षित विद्यार्थी कृषि उत्पादन के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन ला रहे है।

 


Tuesday, April 5, 2022

हमें परिस्थिति को पार करके विजय पाने का संकल्प लेना है – डॉ. मोहन भागवत जी

जम्मू. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने रविवार को नवरेह महोत्सव-2022 के अंतर्गत शौर्य दिवस पर कश्मीरी हिन्दू समाज को ऑनलाइन माध्यम से संबोधित किया. उन्होंने संबोधन में विस्थापितों की कश्मीर में वापसी के संकल्प को दोहराया. जम्मू कश्मीरदेश और विदेश में बसे हजारों विस्थापित कश्मीरी हिन्दुओं ने संजीवनी शारदा केंद्र के फेसबुक पेज पर सुना. नवरेह-महोत्सव 2022 के अंतर्गत अप्रैल को शिर्यभट्ट स्मृति दिवस, 2 अप्रैल को नवरेह संकल्प दिवस मनाया गया था. नवरेह-महोत्सव 2022 का आयोजन संजीवनी शारदा केंद्र द्वारा किया गया था.

सरसंघचालक जी ने शिर्यभट्टराजा ललितादित्य और गुरुतेग बहादुर जी के इतिहास पर भी चर्चा की. उन्होंने बताया कि किस प्रकार शिर्यभट्ट जी ने धैर्य के साथ अपनी शक्ति से परिस्थतियों का सामना करते हुए कश्मीर में समाज को दिशा दे कर एकजुट रखा था. राजा ललितादित्य की जीवनी का उल्लेख करते हुए कहा कि वह महाराणा प्रताप और वीर शिवाजी की परंपरा के पूर्वज थे. हमें इसे सोचना और समझना चाहिए. उन्होंने बताया कि किस प्रकार अरबों के आक्रमण के संकट का सामना संगठन कुशलता के साथ राजा ललितादित्य ने करते हुए शत्रुओं को सीमाओं के पार भगाया था. राजा ललितादित्य ने उस समय भारत के राजाओं का एक संघ तैयार कर राष्ट्र हितों को जगाया था. राजा ललितादित्य का भारत के इतिहास में पराक्रम का यह योगदान अति महत्वपूर्ण है.

गुरु तेग बहादुर जी का उल्लेख करते हुए कहा कि वह देश हित और हिन्दू हित के लिए परम त्याग के आदर्श हैं. उनकी केवल दयाकरुणा ही नहीं थीगुरु महाराज की असीम कृपा हिंद की चादर थी. उसके पीछे एक विचार भी था कि कट्टरपन नहींसबके प्रति अपनापन. यही धर्म है.

सरसंघचालक जी ने कहा कि गुरु तेग बहादुर जी ने अपना सिर दे दियालेकिन सार नहीं दिया. गुरु तेगबहादुर जी ने स्वयं का बलिदान देकर भारत के प्राणों की रक्षा की. गुरु तेगबहादुर जी ने जो त्यागधैर्यसाहस और पराक्रम दिखाया था इसके साथ हमारी बुद्धिशक्ति का संयोग हो और हम निरंतर प्रयासों में लगे रहेंइसकी आवश्यकता है.

आज का नवरेह महोत्सव एक नए पर्व और वर्ष के प्रारंभ के संकल्प का भी दिवस है. अब संकल्प पूर्ति का समय निकट है. 370 के हटने के बाद घाटी वापसी का मार्ग प्रशस्त हो गया है.

सरसंघचालक जी ने उदाहरण दिया कि इजरायल के लोग भी बिखर गए थे. उन्होंने भी अपने त्यौहार में संकल्प और इस संकल्प को 1800 वर्ष तक जागृत रखा और फिर संकल्प के आधार पर एक स्वतंत्र इजरायल को स्थापित किया और पिछले 30 वर्षों में इजरायल सब बाधाओं को पार करके दुनिया में एक अग्रणी राष्ट्र बना है. उन्होंने कहा कि कश्मीरी हिन्दू विस्थापित होकर दुनिया भर में बिखरे तो हैंपरंतु उनके पास एक भूमि हैवह है उनका और हमारा कश्मीरजो भारत का अंग है. पूरा भारत वर्ष कश्मीरी विस्थापित हिन्दुओं के साथ है. एक चित्रपट आया द कश्मीर फाइल्स’. भारतवर्ष का जनमानस यह कह रहा है कि यह चित्रपट सही है. विस्थापन की विभीषिका का सत्य सामने लाने वाले इस चित्र की चर्चा चल रही है.

अबकी बार विस्थापितों को कश्मीर में ऐसा बसना है कि दोबारा उजड़ना न पड़े. अब ऐसा जाएंगे कि कश्मीर में जाकर बसने के बाद वहां पर फिर से उनके नसीब में विभीषिका न आए. परिस्थितियां सब प्रकार की जीवन में आती हैं. परिस्थितियों में हमारी कसौटी होती है. उन्होंने कहा कि हम अपने धैर्य और साहस के माध्यम से ही उस परिस्थिति को पार सकते हैं. कश्मीरी हिन्दू अपने ही देश मेंअपने घर में विस्थापित होने का दंश झेल रहे हैं और यह परिस्थिति तीन-चार दशकों से लगातार चल रही है. हमने इस परिस्थिति को पार करके विजय पाने का संकल्प लेना है.




  


सुल्तानपुर

 लंभुआ विधान सभा 

 आज दिनांक 18 - 4 - 2022 को लंभुआ नगर पंचायत में भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष गोविंद तिवारी जी ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नक्शे कदम पर चलते हुए लंभुआ में तैनात सफाई कर्मी राम तीरथ कोरी का पैर धोकर और अंग वस्त्र पहनाकर मुंह मीठा कराया इस मौके पर गोविंद तिवारी जी के अलावा भा ज पा नेता इंद्र देव मिश्रा डाॅ के पी सिंह सहित कई नेता मौजूद रहे तिवारी जी की इस पहल का नगर वासियों ने भूरि - भूरि सराहना की ।

 


 


  चिकन पॉक्स छोटी माता या बड़ी माता का रूप नहीं, बल्कि यह वायरस से होने वाली बीमारी है।चिकन पॉक्स छोटी माता या बड़ी माता का रूप नहीं, बल्कि यह वायरस से होने वाली एक संक्रामक बीमारी है। वेरीसेला जोस्टर नामक वायरस इस संक्रमण का कारण है, जो कि खांसने, छींकने या रोगी के सीधे संपर्क में आने से फैलता है। होम्योपैथी चिकित्सा में इस बीमारी का कारगर इलाज है।


डॉ नवनीत तिवारी

असिस्टेंट प्रोफेसर 

मुरादाबाद मेडिकल कॉलेज  के अनुसार लोगों को चिकन पॉक्स से घबराना नहीं चाहिए और न ही दवा लेने से परहेज करना चाहिए। होम्योपैथी में इस बीमारी का इलाज संभव है। इस दवा को लेने से कोई साइड इफेक्ट भी मरीज पर नहीं होता। इस बीमारी में यह इलाज पूरी तरह से सुरक्षित है। इसलिए इलाज न कराने की भ्रांति से लोगों को दूर रहना चाहिए।

डॉ नवनीत तिवारी अनुसार चिकन पॉक्स न होने देने के लिए बचाव के तौर पर भी यहां दवा दी जाती है, जिससे कि यह बीमारी होने का खतरा कम हो जाता है। यदि परिवार में किसी एक व्यक्ति को चिकन पॉक्स हो जाए तो अन्य व्यक्ति यदि संक्रमण होने से पहले बचाव के तौर पर दी जाने वाली होम्योपैथी खुराक को इस्तेमाल करें तो उनमें चिकन पॉक्स के विरोध में प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने लगती है, जिससे यह बीमारी अन्य लोगों में नहीं फैलती। जिस परिवार में कोई व्यक्ति पीड़ित नहीं है, वह लोग भी यह खुराक ले सकते हैं। इससे उन्हें बीमारी होने की संभावना कम हो जाती है।

होम्योपैथी दवाइयां: चिकन पॉक्स से निजात दिलाने के लिए कई तरह की होम्योपैथी दवाइयां मौजूद हैं। इसमें वेरीयूलिनम, मेलेनड्रिनम, रसटॉक्स, एंचिमटार्ट व ऑर्सेनिक एलबी आदि हैं। यह दवाएं तीन से 7 दिन तक दी जाती हैं। इसमें खंट्टी, मीठी व मसालेदार चीजें देना मना होता है।

बीमारी के लक्षण:

बुखार आना, नाक व आंख से पानी बहना, हल्की खुजली होना, शरीर में दाने निकलना इत्यादि। ज्यादा स्थिति बिगड़ने पर कान बहना, सीने में इन्फेक्शन होना, दिमागी बुखार, नर्वस सिस्टम खराब होना, निमोनिया, हृदय की क्षति होना, किडनी, लीवर आदि में संक्रमण भी हो सकता है।

बचाव:

  • पीड़ित व्यक्ति को अन्य लोगों के संपर्क में न आने दें।
  • घर की खिड़कियां पूरी तरह बंद न करें।
  • खाने-पीने में तरल खाद्य पदार्थ जैसे-छाछ, दही, खिचड़ी, दलिया, दाल, जूस, ताजा फल का इस्तेमाल करें।
  • पपड़ी सूखने की स्थिति में भी अन्य लोगों के संपर्क में न आने दें ।

चिकन पॉक्स का इलाज न कराने की बात करना भ्रांति के शिवा कुछ नहीं है। इसका होम्योपैथी में इलाज संभव है। यहां इस बीमारी से बचने के लिए भी दवाएं नि:शुल्क उपलब्ध हैं।


डॉ नवनीत तिवारी

असिस्टेंट प्रोफेसर 

मुरादाबाद मेडिकल कॉलेज





  •  सुल्तानपुर के लाल Sudhanshu Tiwari ने  बिना कोचिंग प्रथम प्रयास में ही क्वालीफाई की IIT JAM परीक्षा ।
  • अब NEET और IIT का सपना सजोये 9 से 12 के छात्रों को पाठशाला कोचिंग के माध्यम से तैयार करा रहे मेंडीकल/इंजीनियरिंग छात्रों की नींव।


सुल्तानपुर: सुल्तानपुर के छात्र सुधांशु तिवारी ने आईआईटी जैम की परीक्षा पास कर उच्चतर शिक्षा के लिए पात्रता प्राप्त की है। इस उपलब्धि का श्रेय उन्होंने अपने माता-पिता एवं गुरुओं को दिया उन्होंने बताया कि सही मार्गदर्शन के द्वारा ही परीक्षा को उत्तीर्ण किया जा सकता है ।

आपको बताते चले आईआईटी रुड़की की ओर से फरवरी में आयोजित इस परीक्षा के आधार पर छात्र-छात्राओं को देश के सभी आईआईटी में एमएससी के विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिला मिल सकता है। अगले चरण में डॉक्टरेट की डिग्री एवं डेटा साइंटिस्ट के रूप में कॅरिअर की शुरुआत होती है।

भौतिक विज्ञान विषय IIT जैम उतीर्ण सुधांशु तिवारी वर्तमान समय मे पाठशाला कोचिंग के माध्यम से 9th क्लास से ही विद्यार्थियों को NEET मेडिकल /IIT इंजीनियरिंग के लिए तैयार करा रहे है।वार्ता के दौरान सुधांशु तिवारी ने बताया कि 9th से 12th तक के बच्चों की बेसिक यदि मजबूत हो गई तो,उन विद्यार्थियों को किसी भी परीक्षा को उतीर्ण करने में कोई कठिनाई नही होगी।

 


 पाठशाला कोचिंग में आयोजित चिकित्सा शिक्षा के सेमिनार में आइए जानते हैं डा आयुष द्विवेदी द्वारा दिये गए टिप्स को।


NEET 2022 परीक्षा की तैयारी, पाठ्यक्रम, तैयारी के टिप्स, सर्वश्रेष्ठ परीक्षा पुस्तकों के नाम (भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान)


NEET 2022 : तैयारी के लिए   सर्वश्रेष्ठ तैयारी करने के लिए NEET के उम्मीदवारों को सबसे पहले NEET परीक्षा की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों के बारे में जानकारी हासिल करनी होगी। 


NEET परीक्षा 2022 के लिए सही पुस्तकों का चयन करना उम्मीदवार की NEET 2022 परीक्षा की तैयारी का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा साबित हो सकता है।भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के संपूर्ण पाठ्यक्रम को तैयार करने और पुनरीक्षण करने के लिए पाठ्यक्रम के साथ इस लेख में पाठशाला के एक्सपर्ट्स डा आयुष द्विवेदी द्वारा तैयार संस्तुत NEET परीक्षा के लिए पूरी टिप्स को पढ़े ।


NEET 2022 परीक्षा का क्या महत्त्व है?


NEET एक राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है जो भारत के विभिन्न कॉलेजों में MBBS/BDS पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा आयोजित की जाती है।


सुल्तानपुर :  एमबीबीएस परीक्षाओं की समाप्ति के साथ, यह वर्तमान में देश भर में एमबीबीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एकमात्र प्रवेश परीक्षा है। इसलिए परीक्षा का मानक और कठिनाई स्तर भी बहुत अधिक है।


NEET 2022 परीक्षा को क्रैक करने के लिए केवल कड़ी मेहनत ही काफी नहीं है। प्रतियोगिता पर जीत हासिल करने के लिए एक उम्मीदवार को NEET 2022 परीक्षा के लिए एक मजबूत तैयारी रणनीति की भी आवश्यकता होती है।


 पाठशाला कोचिंग आपको NEET परीक्षा की किताबों की सूची, नीट परीक्षा की किताबों की पीडीएफ़, पाठ्यक्रम और परीक्षा प्रारूप, पाठ्यक्रम और कोचिंग आदि के साथ अपनी तैयारी के इस हिस्से का ध्यान रखने में मदद करेगा। NEET 2022 परीक्षा की तैयारी के लिए सबसे अच्छी रणनीति बनाने के लिए जानकारी की इस सूची को संभाल कर रखें।


NEET परीक्षा 2022 की तैयारी की रणनीति के लिए क्रमानुसार मार्गदर्शिका दी गई है

चरण 1: NEET 2022 परीक्षा का परीक्षा प्रारूप जानें


रणनीति तैयार करने के लिए, आपको सबसे पहले NEET 2022 के परीक्षा प्रारूप और परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार को जानना और समझना होगा।


इस बात को ध्यान में रखना महत्त्वपूर्ण है कि NTA द्वारा NEET 2022 परीक्षा के परीक्षा प्रारूप में अभी तक किसी भी बदलाव की घोषणा नहीं की गई है। लेकिन यह स्पष्ट कर दिया गया है कि परीक्षा इस साल भी पेन और पेपर मोड में आयोजित की जाएगी। हालांकि, इस तथ्य को देखते हुए कि कई राज्यों में कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा के पाठ्यक्रम को कम कर दिया है उम्मीदवारों के पास प्रश्न पत्र में आंतरिक विकल्प होंगे।


NEET 2022 परीक्षा अवलोकन:

विशेष विवरण विवरण

परीक्षा का नाम राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा (NEET)

NEET परीक्षा की आवृत्ति साल में एक बार

परीक्षा का माध्यम- ऑनलाइन/ऑफलाइन


NEET 2022 में प्रश्नों का वितरण भौतिक विज्ञान: 45, रसायन विज्ञान: 45, जीव विज्ञान: 90 दो  भागों में विभाजित है – प्राणी विज्ञान:45 और वनस्पति विज्ञान:  45

प्रश्नों की कुल संख्या   180

प्रश्नों का प्रकार 180 बहुविकल्पीय प्रश्न

कुल अंक 720 अंक, (सही उत्तर: +4, गलत उत्तर: -1)

परीक्षा का माध्यम अंग्रेजी/हिंदी, उर्दू, तेलगु, बंगाली, कन्नड़, गुजराती, तमिल, मराठी,  असमिया और उड़िया (उम्मीदवार के स्थान के अनुसार)

चरण 2: NTA द्वारा प्रस्तावित NEET 2022 पाठ्यक्रम को समझें

शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी आधिकारिक नोटिस के अनुसार NEET 2022 पाठ्यक्रम में कोई बदलाव नहीं किया गया है और यह पिछले साल की तरह ही होगा। पहले की तरह, NEET 2022 का पाठ्यक्रम रसायन विज्ञान, भौतिकी और जीव विज्ञान (प्राणी विज्ञान और वनस्पति विज्ञान) विषयों पर कक्षा 11 और 12 के संपूर्ण पाठ्यक्रम पर आधारित होगा।


NEET विषय-वार पाठ्यक्रम पाठ्यक्रम में कुल इकाइयाँ भारित/महत्त्व


NEET जीव विज्ञान पाठ्यक्रम कक्षा 11 – 5 इकाइयाँ

कक्षा 12 – 5 इकाइयाँ   50%

NEET भौतिक विज्ञान पाठ्यक्रम कक्षा 11 – 10 इकाइयाँ

कक्षा 12 – 11 इकाइयाँ   25%

NEET रसायन विज्ञान पाठयक्रम कक्षा 11 – 14 इकाइयाँ

कक्षा 12 – 16 इकाइयाँ

 



रोगों को जड़ से समाप्त करती है और सस्ती - सुलभ चिकित्सा पद्धति है, होम्योपैथी पद्धति :- डा आयुष द्विवेदी 

मुरादाबाद: होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति के अंतिम सेमेस्टर के छात्र डॉ आयुष द्विवेदी बताते हैं कि, दुनियाभर में 10 अप्रैल को विश्व होम्योपैथी दिवस मनाया जाता है। होम्योपैथी इलाज के प्रति जागरूकता को बढ़ाने के लिए हर वर्ष भारत सरकार एक थीम जारी करती है। यह एक लक्ष्य की तरह से काम करती है। इसके माध्यम से लोगों को होम्योपैथी से इलाज और इसके महत्व के बारे में जागरूक किया जाता है। वर्ष 2022 की थीम “होम्योपैथी : स्वास्थ्य के लिए लोगों की पसंद” रखी गई है।

होम्योपैथिक चिकित्सा प्रणाली, होम्योपैथी केंद्रीय परिषद अधिनियम, 1973 के तहत भारत में मान्यता प्राप्त चिकित्सा प्रणाली है। इसे दवाओं की राष्ट्रीय प्रणाली के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। यह दिन जर्मन चिकित्सक डॉ क्रिश्चियन फ्रेडरिक सैमुअल हैनीमैन की जयंती के अवसर पर मनाया जाता है, जो होम्योपैथी के संस्थापक हैं। डॉ हैनीमैन एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और भाषाविद थे। उनका जन्म 10 अप्रैल 1755 को पेरिस में हुआ था। उन्होंने होम्योपैथी के उपयोग के माध्यम से लोगों को स्वस्थ करने के कई तरीके खोजे और विश्व को होम्योपैथी के रूप में बेहद कारगर, सस्ती और सुलभ वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति दी है।


भारत में होम्योपैथी

होम्योपैथी भारत में लोकप्रिय चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। भारत में होम्योपैथी का इतिहास एक फ्रांसीसी डॉ. होनिगबर्गर के नाम से जुड़ा हुआ है, जो भारत में होम्योपैथी लाए थे। वह महाराजा रणजीत सिंह के दरबार से जुड़े थे। वह 1829-1830 में लाहौर पहुंचे और बाद में उन्हें पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह के इलाज के लिए आमंत्रित किया गया। डॉ होनिगबर्गर बाद में कलकत्ता गए और वहां अभ्यास शुरू किया, जहां उन्हें मुख्य रूप से ‘कॉलरा डॉक्टर’ के नाम से जाना जाता था। होम्योपैथी की शुरुआत 19 वीं शताब्दी में भारत में हुई थी। यह पहले बंगाल में फला-फूला, और फिर पूरे भारत में फैल गया।


होम्योपैथी पर लोगों का भरोसा बढ़ा

माना जाता है कि देश में आयुष मंत्रालय बनने के बाद से होम्योपैथी पर लोगों का भरोसा और बढ़ा है। किसी चिकित्सा पद्धति में सरकार भरोसा दिखाती है, तो आम जनता का विश्वास बढ़ता है। पीएम मोदी ने भी कहा है कि किसी एक पद्धति पर पूर्ण निर्भरता सही नहीं है, इसलिए आयुष मंत्रालय एक बहुत अच्छा कदम है।

विश्व होम्योपैथी दिवस के अवसर पर एक सम्मेलन में केंद्रीय आयुष मंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि आयुष शिक्षा, सेवाकार्य और दवा विकास के क्षेत्रों में एक क्रांतिकारी परिवर्तन हो रहा है। उन्होंने कहा कि हाल ही में गठित राष्ट्रीय भारतीय चिकित्सा प्रणाली आयोग और राष्ट्रीय होम्योपैथी आयोग ने नई शिक्षा नीति के अनुसार आयुष शिक्षा के साथ तालमेल कायम किया है और नई प्रतिभाओं को इस हद तक आकर्षित कर रहे हैं कि आयुष के साथ-साथ होम्योपैथी भी चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों के लिए पहली पसंद बन सकती है। उन्होंने कहा कि होम्योपैथी दवाएं आसानी से ली जा सकती हैं और बड़ी संख्या में लोगों द्वारा स्वीकार्य हैं। उन्होंने कहा कि आम लोगों के बीच होम्योपैथी की स्वीकार्यता अधिक है और लोग कई पीढ़ियों से पारिवारिक चिकित्सकों से इलाज की मांग करते हैं।


सबसे बड़ी होम्योपैथिक दवा निर्माताओं और निर्यातकों में से एक

हमारा देश वैश्विक स्तर पर सबसे बड़ी होम्योपैथिक दवा निर्माताओं और निर्यातकों में से एक है। भारत में, होम्योपैथी आयुर्वेद के रूप में लोकप्रिय है, दोनों आयुष मंत्रालय के दायरे में आते हैं। पिछले कुछ समय में आयुष मंत्रालय ने भारत में होम्योपैथी के प्रोत्साहन के लिए कई प्रयास किए हैं। इन प्रयासों के कारण भारत की आबादी का एक बड़ा हिस्सा अब इलाज की इस प्रक्रिया को अपनाने लगा है।


कई तरह के इलाज में उपयोगी

होम्योपैथिक दवाओं का उपयोग सर्जरी के बाद जल्दी ठीक होने के लिए पारंपरिक चिकित्सा के साथ या अकेले किया जा सकता है। एक शोध में पाया गया कि होम्योपैथी चिंता और हल्के से गंभीर अवसाद के उपचार में उपयोगी है। एक अन्य अध्ययन से संकेत मिलता है कि होम्योपैथिक उपचार ने न केवल कैंसर से पीड़ित लोगों में थकान को कम किया बल्कि उनके जीवन की गुणवत्ता में समग्र रूप से सुधार किया।


बिना सर्जरी के किया जाता है इलाज

होम्योपैथी चिकित्सा के वैकल्पिक विषयों में से एक है, जो आम तौर पर रोगी के शरीर की उपचार प्रक्रिया को ट्रिगर करके काम करता है। होम्योपैथी दवाओं और सर्जरी का उपयोग नहीं करता है। यह इस विश्वास पर आधारित है कि हर व्यक्ति के लिए बीमारियों के अलग-अलग लक्षण होते हैं और उसी के अनुसार उसका इलाज किया जाना चाहिए। यह मानता है कि प्राकृतिक अवयवों की खुराक के माध्यम से इन लक्षणों को उत्प्रेरण करके किसी भी बीमारी को ठीक किया जा सकता है। आज, दुनिया भर में होम्योपैथिक उपचार पर बहुत से लोग निर्भर हैं।


एक सस्ता और सुरक्षित उपचार

होम्योपैथी को पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है क्योंकि यह शरीर के लिए हानिकारक तरीके से प्रतिक्रिया नहीं करता, बल्कि इसकी बजाय यह शरीर में पिछले बीमारियों और निर्धारित दवाओं की उचित और नियमित खुराक के साथ नए विकास की जांच करने में मदद करता है। होम्योपैथी को एक सुरक्षित उपचार माना जाता है क्योंकि यह बेहद कम मात्रा में दवा का उपयोग करता है और इसके बहुत कम दुष्प्रभाव होते हैं।

इसकी गैर-विषाक्तता बच्चों के उपचार के लिए इसे एक अच्छा विकल्प बनाती है। होम्योपैथी का एक अन्य लाभ इस उपचार की लागत है। होम्योपैथिक उपचार एलोपैथिक उपचार की तुलना में काफी सस्ते होते हैं और इनका इलाज काफी प्रभावी पाया गया है।


चिकित्सक की सलाह से लें दवा

यह याद रखें कि होम्योपैथी मामूली रोजमर्रा की बीमारियों के लिए एक सुरक्षित और आसान उपाय तो है, लेकिन इसे किसी योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श के बाद ही लिया जाना चाहिए। चिकित्सक कई कारकों पर विचार करते हैं, जिसमें आपकी आयु, स्थिति, बीमारी की गंभीरता, चरण और आपके पिछले इतिहास को शामिल करके सही दवा की पहचान करते हैं, जो आपके तेजी से ठीक होने के लिए सबसे अच्छा है।

 ऑपरेशन के लिए दर्जनभर से अधिक मोतियाबिंद मरीज हुए चिन्हित


नर सेवा नारायण सेवा: रेवती रमण तिवारी ( जिला अध्यक्ष पूर्व सैनिक परिषद )


सुल्तानपुर। इंदिरा गांधी आई हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर मुंशीगंज अमेठी द्वारा आज गुरुवार को विकास खंड कूरेभार में संचालित जनियर हाई स्कूल बरोला पर निःशुल्क नेत्र शिविर का आयोजन किया गया।नेत्र शिविर का शुभारंभ मुख्य अतिथि जनपद के प्रसिद्ध सर्जन डॉ. एके सिंह ने फीता काटकर किया।सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक संचालित शिविर में इंदिरा गांधी आई हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर मुंशीगंज के विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा क्षेत्र के 135 मरीजों का निःशुल्क नेत्र परीक्षण,परामर्श के साथ दवा उपलब्ध कराई गई। इस दौरान शिविर के आयोजक पूर्व सैनिक परिषद के जिला अध्यक्ष रेवती रमन तिवारी ने बताया कि


आज के कैम्प में 18 मरीजों को निःशुल्क मोतियाविन्द ऑपरेशन के लिए चिन्हित किया गया है।जिनका आगामी 14 अप्रैल को इंदिरा गांधी आई हॉस्पिटल मुंशीगंज में निःशुल्क ऑपरेशन किया जाएगा।शिविर के समापन के अवसर पर पूर्व सैनिक परिषद के जिला उपाध्यक्ष सुरेंद्र तिवारी द्वारा सैनिक


परिषद की तरफ से मुख्य अतिथि डॉ ऐके सिंह सहित कैम्प में मौजूद मुंशीगंज हॉस्पिटल के डॉक्टरों को स्मृति चिन्ह भेंट किया।इस दौरान बरोला ग्राम सभ के प्रधान वीरेंद्र कुमार यादव,प्रधान प्रदीप वर्मा,सूबेदार यादव,पवन यादव,सुनील मोर्य सहित दर्जन स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे।

 


उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर-अमेठी सीट पर 9 अप्रैल को एमएलसी चुनाव होना है। 28 मतदान केंद्रों पर कुल 3894 मतदाता मतदान करेंगे। इसमें सुल्तानपुर के 2220 तो अमेठी के 1674 वोटर शामिल होंगे। भाजपा ने निवर्तमान एमएलसी शैलेंद्र प्रताप सिंह तो सपा ने पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति की पुत्र वधू शिल्पा को मैदान में उतारा है।


सुल्तानपुर में दो हजार के ऊपर वोटर

सुल्तानपुर में 14 ब्लॉकों में 2220 वोटर हैं। इसमें धनपतगंज ब्लॉक प्रमुख व इसौली से बसपा प्रत्याशी यशभद्र सिंह मोनू के ब्लॉक में 147 वोट व बल्दीराय में 156, कुड़वार में 177 और कूरेभार में 191 वोट हैं। यह वोट बैंक किधर जाएंगे यह हार-जीत में काफी निर्णायक होंगे। इसके अलावा जयसिंहपुर में 189, दोस्तपुर में 135, मोतिगरपुर में 96, अखंडनगर में 161, करौंदिकला में 91 और कादीपुर में 143 वोट हैं। यहां सपा के अरुण वर्मा और भाजपा के राज प्रसाद की भूमिका अहम होगी। इसी तरह सपा जिलाध्यक्ष पृथ्वी पाल यादव के क्षेत्र में पीपी कमैचा में 140, 

ज्योतिष

[ज्योतिष][carousel1 autoplay]

अपना सुलतानपुर

[अपना सुलतानपुर][carousel1 autoplay]

दि अन्नदाता

[दि अन्नदाता][carousel1 autoplay]

टेक्नोलॉजी

[टेक्नोलॉजी][carousel1 autoplay]

देश

[देश][carousel1 autoplay]

प्रदेश

[प्रदेश][carousel1 autoplay]

कारोबार

[कारोबार][carousel1 autoplay]

खेल समाचार

[खेल समाचार][carousel1 autoplay]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget