प्रकाश न्यूज़ ऑफ़ इंडिया की वेबसाइट पर पधारने के लिए आपका बहुत- बहुत आभार...लगभग 10 लाख Clicks के साथ हमारी बढ़ती लोकप्रियता में आप सभी पाठकों का अत्यधिक सहयोग है जिसके के लिए आपको साधुवाद... सुलतानपुर जिले में हमारे न्यूज़ बुलेटिन '9 बज गए भइया' को No-1 बनाने के लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद...

सुलतानपुर: पानी से घिरा गांव- निकलना हुआ मुश्किल, ग्रामीण हो रहे परेशान

अमित पांडेय, जयसिंहपुर |PrakashNewsOfIndia.in|
Last Updated: SUN Aug 2020; 04:05:00 PM

सेमरी बाजार, सुलतानपुर:
जयसिंहपुर: क्षेत्र का एक ऐसा गांव जहां आजादी के 73 साल  के बाद भी गांव के लोगों को पानी में घुस कर आना जाना पड़ रहा है। चारों तरफ से पानी में डूबा हुआ है गांव।
          बताते चलें कि क्षेत्र में ऐसे गांव भी हैं जहां पर आजादी के 73 साल बीत जाने के बाद भी अभी उन्हें शासन द्वारा मुहैया कराई गई सुख सुविधाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। एक दो परिवार नहीं बल्कि गांव के गांव सारा परिवार समस्याओं से आज भी जूझ रहा है।        
            यह मामला क्षेत्र के रामनाथ पुरवा गांव से जुड़ा हुआ है। जहां पर आज भी गांव के सारे लोगों को पानी में घुसकर खडंजे के ऊपर से आना जाना पड़ रहा है।खड़ंजे के उपर से बह रहा है पानी। गांव के नरेंद्र उपाध्याय ने बताया कि गांव में पीतांबर के घर से गर्जन के घर तक लगभग 100 मीटर तक खडंजे के उपर पानी बह रहा है। गांव के इस मुख्य मार्ग पर  पानी भरा होने के नाते पीतांबर ,गर्जन, रामसेवक, मंगरु, श्याम लाल सहित   गांव के लोगों को पानी में घुसकर सुबह से शाम तक आना पड़ता है ।यही नहीं दूसरा रास्ता जो नरेंद्र यादव, अशर्फीलाल ,चंद्रिका, मनिका के घर के बगल से जाता है उस पर भी 50 मीटर तक खडंजे पर  पानी भरा हुआ है जिससे खड़ंजा की उपयोगिता बेकार साबित हो रही है ।गांव के लोगों का कहना है कि जल निकासी की समुचित व्यवस्था ना होने के कारण सारा गांव चारों तरफ से पानी से घिरा हुआ है  भारी बरसात के कारण बाहर से भी पानी  आने के कारण गांव की यह समस्या महीनों से है। जिसका जनप्रतिनिधियों ,जिला प्रशासन द्वारा समाधान नहीं किया जा रहा है ,नरेंद्र उपाध्याय ग्रामवासी ने बताया कि गांव की समस्या को लेकर के दर्जनों बार तहसील में एसडीएम ,तहसीलदार व पुलिस प्रशासन से संपर्क करके गुहार लगा चुका हूं परंतु कोई भी समाधान आज तक नहीं हुआ ।

ग्रामीणों का आना-जाना मुश्किल हो गया है। पशुपालकों के सामने समस्या यह है कि गांव के चरागाह ,खाली पड़ी जमीनों में पानी भरा हुआ है जिसकी वजह से पशुओं के चरने के लिए कोई स्थान बाकी नहीं है। तथा गहरे खेतों में पानी भरा होने के कारण धान की फसल चल रही है ।श्री उपाध्याय ने यह भी बताया कि गांव में चारों तरफ से पानी भरा होने के कारण संक्रमण रोग भी गांव में फैलने की पूरी संभावना पाई जा रही है । ग्राम प्रधान द्वारा किसी भी प्रकार के संक्रामक रोगों से बचने के लिए दवाओं का छिड़काव नहीं किया जा रहा है ।

       भरत राम प्रधान रामनाथ पुरवा से संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि गांव के लोगों ने चारों तरफ से घर बना करके पानी निकलने के रास्ते को बंद कर दिया है। जिसकी वजह से गांव का पानी बरसात का पानी बाहर नहीं निकल रहा है यह एक समस्या है उन्होंने माना कि खडंजे के उपर पानी भरा होने के कारण गांव के लोगों के लिए मुसीबत बना हुआ है।

Post a Comment

Previous Post Next Post